सैदपुर ट्रक की चपेट में आने से महिला की मौत - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

सैदपुर ट्रक की चपेट में आने से महिला की मौत

सैदपुर। थानाक्षेत्र के शादियाबाद सैदपुर मार्ग पर स्थित बबुरहनी पुलिया पर मंगलवार की दोपहर महिला ट्रक की चपेट में आ गई। जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। घटना देख ग्रामीणा तुरंत आक्रोशि हो गए और घटनास्थल की तरफ दौड़ पड़े। जिसके बाद भाग रहे ट्रक चालक को मय वाहन दौड़ाकर पकड़ लिया और मारपीट कर उसे एक घर में बंद कर दिया। इसके बाद सड़क जाम कर दिया। इधर घटना की सूचना मिलने के बाद भी पुलिस करीब डेढ़ घंटे की देरी से मौके पर पहुंची। जिससे ग्रामीण और आंदोलित हो गए थे। 

करीब डेढ़ घंटे बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेने की कोशिश की तो ग्रामीण उग्र हो गए और पुलिस के खिलाफ ही नारेबाजी करने लगे। बाद में पहुंचे एसडीएम सत्यम मिश्र के समझाने-बुझाने के बाद ग्रामीण शांत हुए। क्षेत्र के निजामपुर निवासिनी चंदा देवी 35 पत्नी संतोष यादव अपने पुत्र मनीष संग बाइक से भितरी गईं थीं। दोपहर में वापस आने के दौरान रास्ते में मनीष बाइक रोककर पेशाब करने के लिए सड़क से उतर गया। इस बीच शादियाबाद की तरफ से आ रहे तेज रफ्तार ट्रक ने मनीष की मां को टक्कर मार दिया और भागने लगा। यह देख वहां मौजूद ग्रामीणों ने ट्रक को दौड़ाया और कुछ दूरी पर जाकर पकड़ लिया। लेकिन इस बीच महिला की मौत हो चुकी थी। 

इससे गुस्साए ग्रामीणों ने चालक की जमकर धुनाई की और उससे ट्रक की चाबी छीनकर उसे एक घर में बंद कर दिया। इसके बाद 100 नंबर पर सूचना देने पर पता चला कि गाड़ी सर्विसिंग के लिए गई है। कोतवाल को फोन करने पर पता चला कि वो करंडा में हुई पत्रकार हत्याकांड को लेकर करंडा थाने पर थे। वहीं भितरी चैकी इंचार्ज सैदपुर तहसील में मौजूद थे और घटना की सूचना मिलते ही वो तत्काल घटनास्थल के लिए रवाना हुए। इसके बाद ग्रामीणों ने सीधे कप्तान को फोन मिलाया। इसके बाद उन्होंने महिला के शव को सड़क पर रखकर सड़क जाम कर दिया। 

इसके करीब डेढ़ घंटे बाद पुलिस मौके पर आई और शव को कब्जे में लेने की कोशिश की तो ग्रामीण और उग्र हो गए और पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे। इसके बाद मौके पर पहुंचे उपजिलाधिकारी सत्यम मिश्र ने ग्रामीणों को समझाया बुझाया। मुआवजे की मांग पर अड़े ग्रामीणों को एसडीएम ने पारिवारिक लाभ के तहत मुआवजा दिलाने का भरोसा दिया तब जाकर ग्रामीणों ने जाम समाप्त किया। 

इसके बाद आवागमन शुरू हुआ। इस दौरान एसडीएम को देख मृतका के दो मासूम बच्चे बिलख उठे तो एसडीएम ने दोनों बच्चों को पुचकारते हुए उन्हें ढाढस बंधाया। जाम समाप्त होने के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। तीन पुत्रियों समेत एक पुत्र की मां चंदा के पति संतोष मुंबई में काम करते हैं। घटना की सूचना मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया। वहीं पति भी तत्काल घर के लिए रवाना हो गए।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad