गाजीपुर: घटिया सामग्री को देख बंद कराया पोखरा निर्माण - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: घटिया सामग्री को देख बंद कराया पोखरा निर्माण

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर मुहम्मदाबाद सांसद निधि से नगर से सटे महादेवा पोखरा के पक्का घाट निर्माण में अनियमितिता देख लोगों ने विरोध कर काम को रोकवा दिया। मौजूद लोग धन का बंदरबांट किए जाने का आरोप लगाते हुए इसकी जांच कराने की मांग की।

महादेवा पोखरा के जीर्णोद्धार के लिए दैनिक जागरण की ओर से गोद लिया गया था। उसके तहत नगर व ग्रामीण इलाके के प्रबुद्ध लोगों के मदद से धन एकत्रित कर चारो तरफ से पीलर व दीवार बनाकर बेस तैयार कराया गया था। उस समय मौके पर पहुंचे सांसद भरत  ने पक्का घाट बनाने के लिए 10 लाख रुपये अपनी निधि से दिए जाने की घोषणा की थी। 

वह धनराशि इस वर्ष आवंटित हो गई। इसका निर्माण कार्य करीब एक पखवारा पूर्व पैक्सफेड के माध्यम से रेवतीपुर की एक कार्यदायी संस्था की ओर से शुरू कराया गया। निर्माण कार्य शुरू होने के दौरान ही इससे जुड़े लोगों ने ठेकेदार को हिदायत दी थी कि काम में कोताही नहीं होनी चाहिए। बावजूद ठेकेदार सीढ़ी आदि बनाने में मनमाने ढंग से दोयम दर्जे के ईंट का प्रयोग व बालू सीमेंट में मानक की जमकर अनदेखी जारी रखी गयी। शिकायत करने पर आगे से सुधार का केवल आश्वासन देता रहा। 

इसकी जानकारी होने पर नगर के चौधरी राजेंद्र प्रसाद निषाद आदि जब मौके पर पहुंचे तो वहां निर्माण सामग्री देख पूरी तरह से अवाक रह गये। उन्होंने इसकी शिकायत मौके से ही सांसद भरत  को भी मोबाइल से की। वहीं मौके पर मौजूद कारीगरों से काम बंद कराया। इस निर्माण को लेकर लोगों में इस बात की चर्चा रही कि बाढ़ ग्रस्त के इस पोखरे का जिस ढंग से निर्माण कराया जा रहा है उसका कोई मतलब नहीं है। तेज बरसात होने पर ही इसकी सीढि़यां टूट जाएंगी। 

लोगों का कहना है कि कहने को 10 लाख रुपये की धनराशि मिली है लेकिन जिस ढंग का कार्य हो रहा है वह मात्र तीन से चार लाख रुपये में संभव है। मौके पर कामकाज देख रहे कार्यदायी संस्था के बबुआ राय ने बताया कि निधि किसी का भी हो उन्हें विभाग व अन्य जगहों पर कमीशन देना पड़ता है। इससे अच्छे काम की उम्मीद किसी को नहीं करनी चाहिए।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad