मुहम्मदाबाद विधायक संग दुर्व्यवहारः एसओ नोनहरा पर होगी कार्रवाई! - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

मुहम्मदाबाद विधायक संग दुर्व्यवहारः एसओ नोनहरा पर होगी कार्रवाई!

मुहम्मदाबाद। एसओ नोनहरा केपी सिंह पर विभागीय कार्रवाई लगभग तय हो चुकी है। इंतजार बस निर्वाचन आयोग की मुहर लगने का है। सीओ मुहम्मदाबाद अनिल राय से जांच रिपोर्ट मिलने के बाद एसपी सोमेन बर्मा ने कार्रवाई के लिए आयोग की संस्तुति मांगी है। मालूम हो कि रविवार की देर शाम विधायक अलका राय रेवतीपुर से लौवाडीह की ओर जा रही थीं। उसी बीच उनके प्रतिनिधि आनंद राय मुन्ना की नजर हाइवे स्थित कठवामोड़ पुलिस चौकी पर पड़ी। एसओ नोनहरा केपी सिंह करीमुद्दीनपुर थाने के हिस्ट्रीशीटर बदमाश अमित राय के साथ दोस्ताना अंदाज में बतिया रहे थे। यह देख विधायक का काफिला रुक गया। 

उसके बाद अमित राय वहां से खिसक गया। एसओ नोनहरा की यह हरकत विधायक को नागवार लगी। इसके लिए वह उन्हें टोकीं। तब एसओ नोनहरा उनसे नाहक बहस करने लगे। फिर तो विधायक और उनके प्रतिनिधि मुन्ना राय तथा समर्थक पुलिस चौकी परिसर में धरने पर बैठ गए। उनका कहना था कि एसओ नोनहरा की करतूत प्रदेश सरकार की मंशा के एकमद उलट है। 

अपराधियों पर कार्रवाई के बजाय वह उनसे दोस्ताना कर रहे हैं। फिर आपत्ति करने पर वह उल्टे विधायक का अपमान कर रहे हैं। विधायक समर्थकों का यह भी आरोप था कि एसओ नोनहरा ने हिस्ट्रीशीटर को जानबूझ कर भगा दिया। विधायक के पुलिस चौकी में धरना पर बैठने की खबर मिलने के बाद प्रशासनिक हलके में हड़कंप मच गया। आखिर में डीएम के बालाजी तथा एसपी सोमेन बर्मा मौके पर पहुंचे। 

उन्होंने नगर निकाय चुनाव को लेकर लागू आचार संहिता का हवाला देते हुए आयोग से कार्रवाई की संस्तुति मांगने की बात कही। उसके बाद विधायक धरने से उठीं। एसपी ने इस पूरे प्रकरण की जांच सीओ मुहम्मदाबाद अनिल राय को सौंपी। जांच के बाद सीओ मुहम्मदाबाद ने एसपी को अपनी रिपोर्ट दी। 

उस रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की इजाजत के लिए एसपी ने आयोग को चिट्ठी भेजी। जांच रिपोर्ट और कार्रवाई के बाबत एसपी ने गाजीपुर न्यूज़ से बस यही कहा कि आयोग को चिट्ठी भेजी गई है लेकिन विभागीय सूत्रों की मानी जाए तो जांच रिपोर्ट में एसओ नोनहरा को कसूरवार ठहराया गया है। उसमें कहा गया है कि एसओ नोनहरा केपी सिंह का हिस्ट्रीशीटर अमित राय से ताल्लुकात पुराना है। 

यहां तक कि केपी सिंह जब एसओ करीमुद्दीनपुर थे तब अमित राय के खिलाफ कोई निरोधात्मक कार्रवाई नहीं किए थे जबकि अमित के खिलाफ २० से भी अधिक संगीन मामले दर्ज हैं। रिपोर्ट में विधायक अलका राय के प्रति एसओ नोनहरा के व्यवहार को भी अमर्यादित बताया गया है। मालूम हो कि अमित राय करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के जोंगा-मुसाहिब गांव का रहने वाला है। बीते विधानसभा चुनाव में वह अपने ही गांव में भाजपा समर्थकों पर गोली चलाया था।    

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad