गाजीपुर: पूर्व मंत्री की खैरख्वाही पड़ी महंगी, सेवराईं चौकी इंचार्ज लाइन हाजिर - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: पूर्व मंत्री की खैरख्वाही पड़ी महंगी, सेवराईं चौकी इंचार्ज लाइन हाजिर

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर गहमर थाने की सेवराईं चौकी इंचार्ज रामविलास सिंह को पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह की खैरख्वाही का खामियाजा भुगतना पड़ा है। बुधवार को पुलिस कप्तान सोमेन बर्मा ने उन्हें तत्काल प्रभाव से लाइन हाजिर कर दिया। मामला मौजूदा जमानियां विधायक सुनीता सिंह से जुड़ा है। श्रीमती सिंह के समर्थक मुनेश्वर सिंह बाउल ने अपने फेसबुक एकाउंट से उनके समर्थन में एक पोस्ट की। 

बात इस माह के पहले सप्ताह की है। उसके बाद उनकी पोस्ट पर पूर्व मंत्री एवं सपा के वरिष्ठ नेता ओमप्रकाश सिंह का समर्थक गहमर निवासी युवक विवेक प्रताप सिंह ने कमेंट बॉक्स में दो बार विधायक सुनीता सिंह के लिए गंदी गालियां लिखी। इतना ही नहीं उसने कमेंट में अपना मोबाइल नंबर तक देते हुए कहा कि जिसे  कमेंट पर बोलना है वह उससे इस नंबर पर संपर्क करे। उसकी इस करतूत पर बाउल सिंह ने गहमर थाने में तहरीर दी। विवेक के खिलाफ केस दर्ज हुआ। 

बताते हैं कि खुद के खिलाफ एफआइआर दर्ज होने के बाद पुलिस के डर से विवेक पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह के घर सेवराईं पहुंच गया। इसकी जानकारी जब विधायक के लोगों को हुई तो उन्होंने सेवराईं चौकी इंचार्ज रामविलास सिंह को दी। आरोप है कि रामविलास सिंह पूर्व मंत्री के प्रभाव में आकर आरोपित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के बजाय उसे अपने स्तर पर जमानत दे दिए। उसके बाद विवेक विधायक के लिए और मुखर हो गया। वह बताने लगा कि पूर्व मंत्री के चलते उसका कुछ नहीं बिगड़ा। 

जाहिर था कि इससे विधायक सुनीता सिंह के लोगों में तीखी प्रतिक्रिया हुई। विधायक ने पुलिस कप्तान से इस बात पर चर्चा की। विधायक के करीबियों की मानी जाए तो पुलिस कप्तान ने उनकी बात को गंभीरता से लिया और चौकी इंचार्ज सेवराईं रामविलास सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबन की बात कही लेकिन विधायक ने इसके लिए मना कर दिया। तब पुलिस कप्तान उन्हें लाइन हाजिर कर दिए। फिलहाल सेवराईं के लिए नए चौकी इंचार्ज की नियुक्ति नहीं हुई है। इस पूरे प्रकरण को लेकर जमानियां क्षेत्र के आमजन में भी प्रतिक्रिया है। 

लोगों का कहना है कि जब एक सम्मानित विधायक के मामले में इलाकाई पुलिस का रवैया भेदभाव का हो सकता है तो आमजन के साथ यह पुलिस क्या करती होगी। इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। साथ ही लोगों में एक महिला विधायक के साथ विरोधियों की इस तरह के गंदे कमेंट को लेकर भी तीखी प्रतिक्रिया हो रही है।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad