गाजीपुर: लाइफ लाइन में इलाज के दौरान दुर्व्यवस्था पर हंगामा - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: लाइफ लाइन में इलाज के दौरान दुर्व्यवस्था पर हंगामा

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर लाइफ लाइन के  इलाज में चल रही दुर्व्यवस्था पर गुरुवार की शाम करीब तीन बजे सैकड़ों मरीजों ने जमकर हंगामा किया। जिले के सुदूर ग्रामीणों क्षेत्रों से आये बुजुर्ग महिला व पुरुष मरीजों ने लाइफ-लाइन के कर्मचारियों के ऊपर अनदेखी किये जाने के आरोप लगाते हुए बताया कि हम लोगों को जिस समय पर बुलाया गया था, उस समय पर हम लोगों को आपरेशन नहीं किया गया और अब हमें अपना पर्ची लेकर घर जाने को कहा जा रहा है। वहीं  लाइफ लाइन के इंजार्च अनिल प्रेम सागर और मेडिकल आफिसर डा. महकसिक्का के समझाने के बाद मरीज शांत हुए। 

गुरुवार को आंख के आपरेशन का अंतिम दिन था, लेकिन अभी करीब 200 मरीज बचे हुए हैं, जिनको आपरेशन के लिए बुलाया गया था। इसी को लेकर मरीजों ने जिला अस्पताल में हंगामा करना शुरु कर दिया। कुछ मरीजों ने बताया कि हम लोगों को आपरेशन के लिए तीन जनवरी को बुलाया गया था। उस दिन हम लोगों का आपरेशन नहीं हुआ और कल आने के लिए बोला गया। हम लोग रात भर ठंड में यहीं रुक रहे। आज जब हम  लोग अपना पर्चा लेकर गये तो, लाइफ  लाइन के कुछ कर्मचारियों ने कहा कि आप अपना पर्चा लेकर घर जाइये अब किसी का आपरेशन नहीं होगा। कर्मचारी हम लोगों से सही से बात भी नहीं कर रहे हैं। 

वहीं कुछ मरीजों ने बताया कि लाइफ लाइन के कर्मचारी काफी हीलाहवाली की जा रही है। इसको लेकर मरीज और उनके परिजन आक्रोशित हो गये और हंगामा करना शुरु कर दिये। हंगामे की सूचना लाइफ लाइन के इंचार्ज अनिल प्रेम सागर और मेडिकल आफिसर डा. महकसिक्का मौके पर पहुंची। उन्होंने मरीजों को काफी समझाया उसके बाद भी लोगों का गुस्सा शांत  नहीं हुआ। अनिल प्रेमसागर ने बताया कि आंख के आपरेशन का समय समाप्त हो गया है, लेकिन लोगों की भीड़ को देखते हुए पांच जनवरी दिन शुक्रवार को भी मोतियाबिंद के मरीजों का आपरेशन किया जाएगा। इसके बाद सभी मरीजों का दोबारा रजिस्टर में नाम दर्ज किया गया और उन्हें आपरेशन के लिए पांच जनवरी को बुलाया गया। तब जाकर मरीजों ने हंगामा करना बंद किया। वहीं कुछ मरीजों ने लाइफ लाइन के कर्मचारियों के पैसे लेकर नम्बर लागने का भी आरोप लगाया है। 

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad