गाजीपुर: कुख्यात अमित राय का और एक कारनामा, ठेकेदार से रंगदारी के लिए तड़तड़ाई गोलियां - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: कुख्यात अमित राय का और एक कारनामा, ठेकेदार से रंगदारी के लिए तड़तड़ाई गोलियां

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर रंगदारी के लिए ठेकेदार पर फायरिंग की सनसनीखेज खबर मिली है। घटना करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के पारो गांव के पास शुक्रवार की सुबह करीब पौने नौ बजे की है। सौभाग्य रहा कि फायरिंग में ठेकेदार संतोष राय बाल-बाल बच गए। इस मामले में उन्होंने जोंगा-मुसाहिब गांव के कुख्यात हिस्ट्रीशीटर अमित राय तथा उसके साथियों के खिलाफ करीमुद्दीनपुर थाने में तहरीर दी है। 

संतोष राय पीडब्ल्यूडी के निर्माण खंड तीन से करीमुद्दीनपुर से लौवाडीह जाने वाली सड़क का नवनिर्माण का ठेका लिए हैं। उनकी तहरीर के मुताबिक अमित राय स्कार्पियो से अपने साथियों संग निर्माण स्थल पारो गांव के पास पहुंचा और गालियों के साथ बगैर रंगदारी लिए काम नहीं कराने की धमकी देने लगा। संतोष राय जब उसे मना किए तो अमित लक्ष्य कर उन पर दो गोलियां दागा। वह किसी तरह बचने के लिए बगल के खेत में कूद गए। गोलियों की आवाज सुन निर्माण कार्य में लगे मजदूर शोर मचाने लगे। 

तब अमित राय और उसके साथी स्कार्पियो से भाग गए। संतोष राय के मुताबिक इसके पहले गुरुवार की शाम करीब ढाई बजे बाइक से अपने साथियों के साथ निर्माण स्थल पर पहुंचा था और रंगदारी मांगते हुए काम रोकने की चेतावनी देकर लौट गया था। सीओ मुहम्मदाबाद अनिल राय ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में है और उन्होंने पुलिस टीम मौके पर भेजी है। ठेकेदार संतोष राय गोड़उर के रहने वाले हैं और अपने ही गांव की निवासी विधायक मुहम्मदाबाद अलका राय के खास माने जाते हैं।

कौन है अमित राय
कुख्यात हिस्ट्रीशीटर अमित राय करीमुद्दीनपुर थाने के जोंगा-मुसाहिब गांव का रहने वाला है। पहले वह बक्सर(बिहार) के माफिया गुड्डू राय का शूटर था लेकिन अब वह बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी का करीबी माना जाता है। विधानसभा चुनाव अभियान के दौरान वह भाजपा समर्थकों पर फायरिंग भी किया था। 

पिछले साल नवंबर में वह तब सुर्खियों में आया था जब विधायक मुहम्मदाबाद अलका राय अटवा मोड़ पुलिस चौकी के सामने तत्कालीन एसओ नोनहरा केपी सिंह के साथ उसको गबहियां करते देख अपना काफिला रोक दी थीं और एसओ के निलंबन की मांग को लेकर समर्थकों संग अटवा मोड़ चौकी में धरने पर बैठ गई थीं। हालांकि, उस वक्त मौका देख कर अमित राय भाग निकला था। 

उसके बाद उसने अपने फेसबुक एकाउंट के जरिये विधायक अलका राय को धमकी भी दी थी। सीओ मुहम्मदाबाद अनिल राय बताते हैं कि अमित के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, रंगदारी जैसे संगीन अपराधों में करीमुद्दीपुर सहित कई थानों में कुल 22 मामले दर्ज हैं। उसकी तलाश शुरू कर दी गई है।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad