गाजीपुर: लूट का विरोध करने पर बेखौफ लुटेरों ने युवक को उतारा मौत के घाट, महिला घायल - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: लूट का विरोध करने पर बेखौफ लुटेरों ने युवक को उतारा मौत के घाट, महिला घायल

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर सादात दुस्साहसी बदमाशों ने लूट की कोशिश में युवक सुनील राजभर(35) की गोली मार कर हत्या कर दी जबकि उनकी चाची शांति देवी(55) को जख्मी कर दिए। घटना बहरियाबाद थाने के मिर्जापुर बाजार में पानी टंकी के पास गुरुवार की शाम करीब छह बजे हुई। सुनील पड़ोसी जिला जौनपुर के थाना चंदवक स्थित मझली गांव के रहने वाले थे। घटना के बाद ग्रामीणों ने सीएचसी के सामने युवक की लाश रख कर जाम कर दिए। घायल शांति देवी को सैदपुर सीएचसी में दाखिल कराया गया है। 

उन्हें कमर में गोली लगी है। चश्मदीदों के मुताबिक सुनील अपनी चाची तथा भाइयों के साथ मिर्जापुर में रिश्तेदार रामसेवक राजभर के घर आयोजित विवाह समारोह में भाग लेने आ रहे थे। एक बाइक पर सुनील तथा छोटा भाई मनीष थे जबकि दूसरी बाइक तीसरा भाई सूरज व चाची शांति देवी बैठी थीं। तीसरी बाइक पर परिवार के अन्य दो सदस्य थे। उसी बीच पानी टंकी के पास पीछे से आए बाइक सवार दो बदमाशों ने ओवरटेक कर सुनील की बाइक जबरिया रोकवाई और तमंचे के बल पर सुनील के गले में पड़ी सोने की चेन छीन लिए। उसके बाद उसकी बाइक कब्जा करने की कोशिश करने लगे। तब सुनील उनसे उलझ गया। 

तभी बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी। सिर में गोली लगने से सुनील  की मौके पर ही मौत हो गई। यह देख दूसरी बाइक पर सवार सुनील की चाची शांति देवी शोर मचाने लगीं। आसपास के लोग आवाज सुन मौके की ओर लपके लेकिन बदमाश शांति देवी को भी गोली मारकर मेहनाजपुर(आजमगढ़) की ओर भाग निकले। उसके बाद मौके पर बहरियाबाद सहित आसपास के थानों की पुलिस फोर्स पहुंच गई। 

पुलिस कप्तान सोमेन बर्मा ने बताया कि वह मौके के लिए रवाना हो रहे हैं। उधर घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने भासपा के जिला पंचायत सदस्य मारकंडेय सिंह की अगुवाई में सीएचसी के सामने सुनील राजभर की लाश रखकर रास्ता जाम कर दिए। उनका कहना था कि घटना के वक्त गोली से घायल दोनों जनों को सीएचसी लाया गया लेकिन वहां चिकित्सक नहीं थे। लिहाजा चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। साथ ही यूपी-100 को सूचना देने के बाद भी पुलिस टीम वक्त पर नहीं पहुंची। उनके खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। साथ ही मिर्जापुर में पुलिस चौकी स्थापित की जाए।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad