गाजीपुर: कासिमाबाद प्रमुख के उप चुनाव की सारी तैयारियां पूरी, 120 बीडीसी सदस्य डालेंगे वोट - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: कासिमाबाद प्रमुख के उप चुनाव की सारी तैयारियां पूरी, 120 बीडीसी सदस्य डालेंगे वोट

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर कासिमाबाद ब्लाक प्रमुख के उप चुनाव को लेकर मतदान की सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मतदान 15 सितंबर की सुबह 11 से शाम तीन बजे तक होगा। उसके बाद मतगणना कर परिणाम घोषित कर दिया जाएगा। कुल 120 बीडीसी सदस्य वोट डालेंगे। मतदान की तैयारियों को अंतिम रूप देते वक्त जायजा लेने के लिए सीआरओ अजय अवस्थी सहित तहसीलदार प्रमोद कुमार शुक्रवार को पहुंचे थे। बीडीओ धनंजय सिंह को सीआरओ ने आवश्यक निर्देश दिए। कहे कि सिवाय मतदाता मतदान स्थल पर गैर को जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी। मुकाबला अनिल राम तथा सुभाष राम के बीच सीधा है।

अनिल राम अंसारी बंधुओं के खास स्व.कांता राम के बेटे हैं। उन्हें बसपा के साथ ही सपा के वोट पर भी पूरा भरोसा है। मजे की बात तो यह कि भाजपा और भासपा के इलाकाई नेता भी अप्रत्यक्ष रूप से उनके साथ हो गए हैं जबकि सुभाष राम के साथ कोई इलाकाई बड़ा चेहरा नहीं दिख रहा है। मालूम हो कि आम चुनाव में भी अंसारी बंधुओं ने कांता राम को मैदान में उतारा था लेकिन तत्कालीन सपा सरकार की मंत्री और क्षेत्रीय विधायक शादाब फातिमा के बूते बसपा छोड़ कर सपा में आए श्यामनारायण राम ने जीत हासिल कर ली थी। हालांकि अंसारी बंधुओं ने उस वक्त सरकारी तंत्र का बेजा इस्तेमाल करने का श्यामनारायण पर आरोप लगाया था। इसके लिए वह राज्य निर्वाचन आयोग तक में शिकायत किए थे लेकिन कुछ नहीं हुआ था। बाद में कांता राम का असामयिक निधन हो गया। उसी बीच सपा सरकार की जगह भाजपा आ गई। तब श्यामनारायण भी पलटी मारे और भाजाप की सहयोगी पार्टी भासपा का दामन थाम लिए।

बावजूद अंसारी बंधु अपने खास कांता राम की हार को भूले नहीं थे। उन्होंने गोटी बैठाई। स्व.कांता राम की जगह उप चुनाव में बीडीसी बने उनके बेटे अनिल की अगुवाई में श्यामनारायण राम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव डलवाए। 22 अप्रैल को अविश्वास प्रस्ताव 76 के मुकाबले दो मतों से पारित हो गया। श्यामनारायण कहीं के नहीं रहे। वैसे चर्चा है कि श्यामनारायण ने ही उप चुनाव में सुभाष राम को खड़ा कराया है। उप चुनाव के लिए सतीष चंद्र राम ने भी पर्चा भरा था लेकिन वह वापस ले लिए थे। अब जबकि बसपा-सपा के गठबंधन के साथ ही भाजपा-भासपा का भी अप्रत्यक्ष रूप से समर्थन मिल रहा है तो स्व. कांता राम के बेटे अनिल अपनी जीत को लेकर पूरी तरह आश्वस्त हैं। उनका दावा है कि जीत पहले ही तय हो चुकी है बस वोट पड़ने और उनकी गिनती के बाद नतीजा घोषित होने का इंतजार है।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad