गाजीपुर: नाजायज संबंध के शक में हुई थी लक्ष्मीना की हत्या - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: नाजायज संबंध के शक में हुई थी लक्ष्मीना की हत्या

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर दिलदारनगर पुलिस भरवलिया गांव में हुए लक्ष्मीना देवी(40) हत्याकांड के राजफास का दावा की है। हत्या की वजह गांव की ही एक महिला के नाजायज संबंध में लक्ष्मीना की मध्यस्थता की भूमिका थी। हत्यारे प्रभु यादव को गिरफ्तार कर उसकी निशानदेही पर हत्या में इस्तेमाल फावड़ा भी बरामद कर लिया गया है।  एएसपी ग्रामीण चंद्र प्रकाश शुक्ल ने गुरुवार की शाम एसपी ऑफिस में हत्यारे प्रभु यादव को मीडिया के सामने पेश किया। बताए कि प्रभु यादव पेशे से मजदूर है और दिल्ली में मजदूरी करता था। उसे शक था कि उसकी नामौजूदगी में पत्नी गांव के ही एक अन्य युवक से जुड़ गई थी और उसमें पड़ोसी लक्ष्मीना पत्नी गुड्डू यादव तथा उसका पुत्र पत्नी का सहयोग करते थे। उसी शक में प्रभु यादव बीते 11 अक्टूबर को दिल्ली से घर लौटा। नाजायज संबंधों को लेकर उसका पत्नी से झगड़ा हुआ और वह पत्नी को मारपीट कर भगा दिया। पत्नी अपने मायके चितावनपट्टी गांव चली गई। उसी क्रम में उसने लक्ष्मीना को भी अपनी पत्नी के नाजायज संबंधों में मध्यस्थता नहीं करने के लिए चेताया।

फिर 12 अक्टूबर को नात-रिश्तेदार प्रभु के घर पहुंचे और पत्नी से झगड़े को लेकर पंचायत शुरू हुई। उसी बीच प्रभु ने पत्नी के चरित्र पर सवाल उठाते हुए कहा कि पत्नी को घर से भगाया है लेकिन अभी इस मामले में वह और भी कुछ करेगा। जाहिर था कि उसका इशारा लक्ष्मीना को लेकर था और वह आखिर में वह करके दिखा भी दिया। 13 अक्टूबर की दोपहर लक्ष्मीना घर के पास सार्वजनिक हैंडपंप पर नहाने पहुंची। तभी मौका देख कर प्रभु फावड़ा लेकर उसके पास पहुंचा और लक्ष्मीना के चेहरे तथा गर्दन पर ताबड़तोड़ दो जोरदार प्रहार किया। उस हमले में लक्ष्मीना की मौके पर ही मौत हो गई। उसके बाद प्रभु रक्तरंजित फावड़ा बदन सिंह यादव के धान के खेत में फेंक कर भाग निकला था।

घटना के वक्त गांव में किसी मृत व्यक्ति के दाह संस्कार के लिए लगभग सभी पुरुष चले गए थे। लिहाजा, प्रभु को हत्या करते कोई देख नहीं पाया था लेकिन जब विवेचना शुरू की तब हत्या का हर राज परत दर परत खुलता चला गया। उसके बाद पुलिस ने प्रभु यादव की तलाश शुरू की। इसी बीच बुधवार को बजरिये मुखबिर एसएचओ दिलदारनगर विमल कुमार मिश्र को सूचना मिली कि प्रभु सुहवल तिराहे के पास मौजूद है। उसकी योजना कहीं भागने की है। तब एसएचओ मय टीम मौके पर पहुंचे और प्रभु यादव को धर दबोचा गया। पूछताछ में वह अपना जुर्म कबूला। प्रभु को अपनी पत्नी के गांव के जिस युवक से नाजायज संबंध की आशंका थी वह दिल्ली में ही मजदूरी करता है। प्रभु को दो मासूम संतानें हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad