ग्रीष्मावकाश खत्म होने के दो दिन पहले हेडमास्टर साहब पहुंचेंगे स्कूल, व्यवस्था करेंगे दुरुस्त - गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़ : Ghazipur News in Hindi, ग़ाज़ीपुर न्यूज़ इन हिंदी

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

ग्रीष्मावकाश खत्म होने के दो दिन पहले हेडमास्टर साहब पहुंचेंगे स्कूल, व्यवस्था करेंगे दुरुस्त

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर सरकारी स्कूलों का ग्रीष्मावकाश के बाद नया सत्र पहली जुलाई से शुरू होगा लेकिन उस दिन साप्ताहिक बंदी रविवार के कारण स्कूल दो जुलाई को खुलेंगे। जाहिर है कि करीब डेढ़ माह के ग्रीष्मावकाश के कारण स्कूल भवन तथा कैंपस में अव्यवस्था की स्थिति बन गई है लिहाजा सभी हेड मास्टर को ग्रीष्मावकाश खत्म होने से दो दिन पहले अपने स्कूल पर पहुंचना होगा। 

शिक्षा निदेशक(बेसिक) डॉ.सर्वेंद्र विक्रम बहादुर सिंह ने बुधवार को इस आशय का प्रदेश के सभी बीएसए को सर्कुलर जारी किया। उन्होंने कहा है कि स्कूल खुलने के पहले दिन से ही व्यवस्था सुचारु रूप से चलने लगे। इसके लिए सभी हेडमास्टर दो दिन पहले स्कूल पहुंचे और रंगाई-पोताई कर भवन को आकर्षक स्वरूप दिलाएं। कैंपस की सफाई के लिए ग्राम प्रधान से संपर्क कर ग्राम पंचायत में तैनात सफाई कर्मियों को लगाएं। साथ ही शौचालय को भी साफ-सुथरा कराएं। पेयजल की सुविधा को भी व्यवस्थित कराएं। 

जरूरत पड़े तो बिगड़े हैंडपंप की मरम्मत कराई जाए। मध्याह्न भोजन के लिए गैस सिलेंडर तथा खाद्यान्न की उपलब्धता तय कराएं। निदेशक ने कहा है कि स्कूल खुलने के पहले सप्ताह में ही बच्चों को ड्रेस, जूता-मोजा, बैग तथा पाठ्य पुस्तकों का वितरण किन्हीं जनप्रतिनिधियों से कराई जाए। आउट ऑफ स्कूल बच्चों को चिन्हित कर उन्हें स्कूल में लाने की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। इसके लिए अभियान चलाया जाए। 

निदेशक के सर्कुलर के बाबत पूछने पर प्रभारी बीएसए पूर्णिमा श्रीवास्तव ने कहा कि फिलहाल उनके सामने यह सर्कुलर नहीं आया है लेकिन पहले ही जिले भर के सभी हेड मास्टरों को इस आशय का निर्देश दिया जा चुका है। साथ ही पाठ्य पुस्तकों की डिमांड की गई है। ड्रेस की धनराशि स्कूलों के खाते में भेज दी गई है। बैग उपलब्ध हो चुका है। मालूम हो कि गाजीपुर में कुल सरकारी स्कूलों में 802 जूनियर तथा 1953 प्राइमरी स्कूल हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad