गाजीपुर: जलस्तर में तेजी से बढ़ाव से तटवर्ती लोगों की बढ़ी धुकधुकी - Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Ghazipur Samachar in Hindi ✔

Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Ghazipur Samachar in Hindi ✔

गाजीपुर न्यूज़, Ghazipur News, गाजीपुर खेल समाचार, गाजीपुर राजनीति न्यूज़, Ghazipur Crime News

Breaking News

Post Top Ad

Post Top Ad

शनिवार, 14 सितंबर 2019

गाजीपुर: जलस्तर में तेजी से बढ़ाव से तटवर्ती लोगों की बढ़ी धुकधुकी

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर एक बार फिर गंगा का जलस्तर बढ़ने से तटवर्ती ग्रामीणों की धुकधुकी बढ़ गई है। शुक्रवार को गंगा के जलस्तर में चार सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ाव जारी है। शाम चार बजे गंगा का जलस्तर 61.950 मीटर रिकार्ड किया गया। अनुमान लगाया जा रहा है गंगा के जलस्तर में अभी बढ़ाव जारी रहेगा।

बीते दिनों गंगा के जलस्तर में कई बार बढ़ाव होने के बाद कुछ दिनों से गंगा शांत थीं लेकिन अचानक दो दिनों से फिर से बढ़ाव शुरू हो गया है। इसके बढ़ने से तटवर्ती इलाकों में रहने वालों की चिता फिर बढ़ गई है। अगर जलस्तर ऐसे ही बढ़ता रहा तो कुछ दिनों में पलायन की नौबत आ सकती है। केंद्रीय कार्यालय के जल प्रभारी सुरेंद्र ने बताया कि बुधवार से गंगा का जलस्तर बढ़ना शुरू हो गया है। शुरुआती दौर में सात सेमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा था जो अब चार सेमी के हिसाब से चल रहा है। उम्मीद लगाई जा रही है कि अभी बढ़ाव जारी रहेगा।

मुहम्मदाबाद : जलस्तर बढ़ने से लोग बाढ़ की आशंका से पूरी तरह से सशंकित नजर आ रहे हैं। सेमरा व शिवरायकापुरा व शेरपुर के किसान कटान को लेकर काफी परेशान हैं। करीब एक पखवारा पूर्व गंगा के जलस्तर में बढ़ाव के उपरांत पानी तेजी से खिसकता देख लोगों को इस बात का भरोसा हो गया था कि हो न हो अब खतरा टल गया है। इसी बीच जलस्तर बढ़ना शुरू हो जाने से शुक्रवार को दोपहर बाद तक करीब दो मीटर जलस्तर बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है। 

इस गति को देख लोग अब बाढ़ आने की संभावना से चितित नजर आ रहे हैं। जलस्तर बढ़ने पर अभी शिवरायकापुरा से आगे रामतुलाई से लेकर गुलरी शेरपुर तक कटान से किसानों के कई बीघा कृषि भूमि गंगा में समाहित हो गई है जो जलस्तर घटने पर अब रूक सा गया था लेकिन अचानक दोबारा तेज गति से बढ़ाव शुरू हो जाने से सबसे ज्यादा शिवरायकापुरा से सटे रामतुलाई के पास मातृ शिशु कल्याण केंद्र व डीह बाबा के पास कटान पीड़ितों के साथ-साथ उसके आगे खेतों में अपना नया आशियाना बनाकर रह रहे लोगों की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Post Top Ad