गाजीपुर: गंगा में घटाव जारी, कम नहीं हो रहीं दुश्वारियां - Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: गंगा में घटाव जारी, कम नहीं हो रहीं दुश्वारियां

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर गंगा के साथ अन्य सहायक नदियों के घटाव के बाद भी लोगों की दुश्वारियां कम नहीं हो रही हैं। रविवार को गंगा एक सेंमी प्रति घंटे की रफ्तार से घट रहा है। शाम पांच बजे गंगा का जलस्तर 62.300 मीटर रिकार्ड किया गया। वहीं सहायक नदियों के जलस्तर के घटने के बावजूद ग्रामीणों की समस्याएं बढ़ती ही जा रही हैं। बाढ़ के पानी के साथ बह कर आई गंदगी अब सड़ने लगी है। साथ ही बेसो व उदंती के तटवर्ती ग्रामीणों को आवागमन करने में काफी परेशानी हो रही है। उधर मगई नदी में बढ़ाव जारी होने से किसानों की फसलें डूब रही हैं।

मनिहारी : स्थानीय क्षेत्र के मरदानपुर लक्ष्मण गांव के चौहान बस्ती के चारों तरफ से मगई नदी के पानी से घिर जाने के कारण वहां के लोगों का आवागमन बंद हो था। चार दिन बीतने के बाद नाव एवं राशन नहीं मिलने पर पूर्व जिला पंचायत सदस्य रमेश यादव ने जिलाधिकारी के. बाला जी से गांव के लोगों को निकलने के लिए नाव एवं खाने के लिए राशन की मांग की। जिलाधिकारी ने इसे गंभीरता से लेते हुए तत्काल नाव एवं राशन उपलब्ध करवाने के लिए उपजिलाधिकारी जखनियां अभय कुमार मिश्रा को आदेश दिया। सुबह नाव एवं राशन लेकर पहुंचे पूर्व जिला पंचायत सदस्य रमेश यादव एवं समाजसेवी रामाश्रय चौहान ने ग्रामीणों को अपने तरफ से चना, बिस्किट, लाई, आटा तथा शासन की ओर से मिले खाद्यान्नों चावल, आटा, आलू, चीनी आदि समाग्री का वितरण किया गया। इस अवसर पर संगीता चौहान, चम्पा देवी, वकील चौहान, देवनरायन चौहान, साहब चौहान, रामसकल चौहान आदि थे।

लौवाडीह गांव के नजदीक पहुंचा मगई का पानी
लौवाडीह : मंगई नदी में बढ़ाव अभी भी जारी है। नदी का पानी गांव के काफी निकट सड़क के पास आ गया है। अगर एक दो दिनों तक पानी बढ़ा तो गांव में प्रवेश कर जाएगा। पहले से ही दक्षिण स्थित ताल का पानी गांव में पहुंच रहा है। हालत यह है कि अधिकांश किसानों के धान की फसल डूब कर चौपट हो गयी है। सबसे बड़ी परेशानी है कि अन्य गांव में बाढ़ का पानी पुन: नदी में चला जाता है लेकिन इस गांव की भौगोलिक स्थिति और पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के रुकावट के कारण पानी सूखकर ही खत्म होगा। 

ऐसे में रबी की फसल की खेती में ही नहीं बल्कि एक बड़े रकबे में बोआई ही नहीं हो पाएगी। ऐसे में किसानों को दोहरी मार झेलनी पड़ेगी। इस गांव के अतिरिक्त जोगामुसाहिब, रेड़मार, पारो, मुर्तजीपुर, राजापुर, परसा, खेमपुर, सिलाइच, देवरिया, करीमुद्दीनपुर, मसौनी सहित कई गांव की फसल बर्बाद हो रही है और रबी की बोआई में काफी विलंब होगा। इस संबंध में उपजिलाधिकारी मुहम्मदाबाद राजेश गुप्ता ने कहा कि टीम को निरीक्षण के लिए भेजा जाएगा।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad