Breaking News

भड़सर चट्टी से वेदबिहारी पोखरा को जाने वाली सड़क के गड्ढ़ों को ईंटो से भरकर छोड़ा - Ghazipur News

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर. गाजीपुर जिले की 748 किमी सड़कों को गड्ढ़ामुक्त करने का अभियान 15 सितंबर से शुरू हो गया, लेकिन इसके तहत जिन सड़कों को गड्ढ़ामुक्त किया जा रहा है, उनमें गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा जा रहा। शासन के निर्देश के बावजूद सड़कों के गड्ढ़ों को ईंट से भरा जा रहा है। यह मानक से इतर होने के साथ लोगों के आवागमन के लिए भी खतरनाक साबित हो रहा है। इससे जिले में गड्ढ़ामुक्त अभियान पर सवाल उठने लगे हैं।

भड़सर चट्टी से वेदबिहारी पोखरा को जाने वाली सड़क
भड़सर चट्टी से वेदबिहारी पोखरा को जाने वाली सड़क

मरदह के भड़सर चट्टी से वेदबिहारी पोखरा चट्टी तक जाने वाली करीब 12 किलोमीटर लंबी सड़क जर्जर हाल में थी। लोक निर्माण विभाग ने गड्ढ़ामुक्त अभियान के तहत सड़क को दुरुस्त करने का कार्य शुरू कराया। इस लिहाज से विभाग ने सड़क पर सिर्फ ईंट के टुकड़े गिरा कर छोड़ दिया। जबकि मानक के अनुसार, सड़क को गड्ढ़ा मुक्त करने के लिए बड़ी गिट्टी के साथ पीसी पेंटिंग और डस्ट आदि का इस्तेमाल करने का प्रावधान है। 

जो पूरी सड़क पर कहीं नहीं दिख रही है। इससे आसपास के लोगों में विभाग और ठेकेदार की लापरवाही को लेकर रोष है। सड़क पर स्थित बिहरा गांव के कांता राम, चंद्रपति सिंह, बिरजू यादव, राहुल राजभर, राजू राजभर, दिनेश राम, अनुज राम, बृजेश सिंह, गंगा जायसवाल, संदीप सिंह, शिवम सिंह आदि का कहना है कि यह मार्ग एक वर्ष से जर्जर हाल में है। 

इसके पूर्व भी इसकी मरम्मत कराई गई थी, लेकिन एक बारिश भी नहीं गुजर पाई और सड़क जर्जर हो गई। फिर से पूरे वर्ष लोगों को गड्ढ़े में ही आवागमन करना पड़ा। इस बार सड़क को दुरुस्त करने का काम शुरू हुआ और सिर्फ ईंट के टुकड़े गिरा कर छोड़ दिया जा रहा है, जिससे गड्ढ़े तो भर जाएंगे, लेकिन सड़क पर आवागमन की बेहतर सुविधा नहीं हो सकेगी। सड़क पर 7.50 सेमी गिट्टी डालकर गुणवत्ता पूर्ण तरीके से पीसी कराने की जरूरत है। लोक निर्माण विभाग की ओर से भी ठेकेदारों को इसकी इजाजत नहीं देनी चाहिए।

यह मार्ग बीरबलपुर, बिहरा, नसीरुद्दीनपुर, पृथ्वीपुर, अविसहन, कलौरा, जगदीशपुर और उचौर होते हुए वेदबिहारी पोखरा चट्टी से कासीमाबाद तहसील मुख्यालय को जाता है। सड़क पर गड्ढ़े होने से दुर्घटना की आंशका बनी रहती है। पिछले दिनों बरसात के पानी का जलजमाव भी हो गया है। इससे ईंट डालने के बाद सड़क खतरनाक हुई है। सड़क किनारे बसे गांव के लोगों का कहना है कि पहले भी सड़क से आवागमन करना कठिन था और अब भी नारकीय स्थिति बनी हुई है। सरकार के गड्ढ़ामुक्त अभियान से क्षेत्र की सड़कों की समस्या का समाधान होता नहीं दिख रहा है।

डिप्टी सीएम को बताया सड़क का हाल

जंगीपुर-शुभाखरपुर मार्ग की समस्या को लेकर बृहस्पतिवार को छात्र नेता विवेक पांडेय ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को अवगत कराया। बताया कि मई 2018 में इस सड़क का निर्माण पूर्ण हुआ, लेकिन कुछ दिन बाद ही सड़क पूरी तरह से टूट गई। सड़क के टूटने पर लोगों ने विरोध दर्ज कराया था। इसके बाद कई लोगों पर मुकदमा भी दर्ज किया गया। बताया कि प्रधानमंत्री सड़क योजना के अंतर्गत सड़क का निर्माण हुआ था। गुणवत्ता ठीक नहीं होने से सड़क फिर से जर्जर हो गई।

एक महीने पहले सड़क के चौड़ीकरण और निर्माण से संबंधित प्रस्ताव भेजा गया है। स्वीकृति मिलने के बाद सड़क का निर्माण कराया जाएगा। फिलहाल, सड़क के गड्ढ़ों को भरने का काम कराया गया, जिससे सड़क आवागमन लायक हो जाए।-कन्हैया पांडेय, जेई पीडब्लूडी

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();