गाजीपुर: डॉ राम मनोहर लोहिया डिग्री कॉलेज अध्यात्मपुरम बाराचावर में धूमधाम से मनाई गयी आचार्य नरेंद्र देव की 130वी जयंती - Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: डॉ राम मनोहर लोहिया डिग्री कॉलेज अध्यात्मपुरम बाराचावर में धूमधाम से मनाई गयी आचार्य नरेंद्र देव की 130वी जयंती

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर कर्मवीर सत्यदेव सिंह द्वारा स्थापित डॉ राम मनोहर लोहिया डिग्री कॉलेज अध्यात्म पुरम बाराचावर में आचार्य नरेंद्र देव की 130 वी जयंती मनाई गई । आज समाजवाद के महान चिंतक, आचार्य नरेंद्र देव की 130 वी जयंती, का आयोजन, डॉ राम मनोहर लोहिया डिग्री कॉलेज अध्यात्म पुरम ,बाराचावर गाजीपुर ,में आयोजित हुआ कार्यक्रम में आचार्य जी के जीवन पर उनके बहुआयामी व्यक्तित्व पर कालेज के विद्वान प्राचार्य डॉ धीरेंद्र कुमार मिश्र ने ,प्रकाश डाला। आदरणीय प्राचार्य जी ने आचार्य नरेंद्र देव जी को हिंदी, अंग्रेजी ,संस्कृत, के साथ प्राकृतिक के ज्ञाता के रूप में विद्यार्थियों को बताया । 

उन्होंने यह भी बताया कि आजादी के महानायक ,ने अपने जीवन में समाजवादी मूल्यों के लिए लगातार संघर्ष किया। महात्मा गांधी के जीवन से प्रभावित होकर स्वाधीनता आंदोलन की अगुवाई की। स्वाधीनता के पूर्व ,महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की स्थापना काल में विद्यार्थियों के जीवन में देश और दुनिया की समस्याओं के बारे में उनकी जिज्ञासाओं को एक प्रखर वक्ता के रूप में, एक आचार्य के रूप में उनकी, ज्ञान बिपाशा को, लगातार ,वह अपने विद्वान विद्वत संबोधन उसे संतुष्ट कर रहे थे। साथ ही काशी हिंदू विश्वविद्यालय में कुलपति के रूप में एक, आचार्य की तरह, से निरंतर विद्यार्थियों के, सम्मुख ,उनकी कक्षाओं में जाना ,भी आज के प्राचार्य और कुलपति के लिए अनुकरणीय होगा । 

जब आज का वर्तमान परिवेश शिक्षा को कलुषित कर रहा है । कार्यालयों में बैठकर के प्राचार्य और कुलपति केवल अपना कार्य विश्वविद्यालयों की स्थापना और विस्तार में लगा रहे हैं ,उन्हें आचार्य नरेंद्र देव की जीवन से सीख लेकर विद्यार्थियों के ज्ञान की ओर बढ़ना चाहिए । निरंतर कक्षाओं में उपस्थित विद्यार्थियों के ज्ञान का, परिमार्जन कुलपति का बहुत बड़ा दायित्व होता है । आचार्य जी ने ,कुलपति के रूप में ,भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और पंडित कमलापति त्रिपाठी, युवा तुर्क चंद्रशेखर से मुलाकात होती है । उन्होंने चंद्रशेखर को राजनीति में जाने के लिए कहा।  कमलापति त्रिपाठी को राजनीति की अगुवाई के लिए कहा । 

निश्चित रूप से आजाद ,हिंदुस्तान में कई ऐसे राजनेता हैं ,जिनको राजनीति, वो सीधे भेज करके ,भारत की अमूल्य सेवा की। आगे बढ़ाया । कार्यक्रम में आसपास के गणमान्य अतिथियों का स्वागत कालेज के निदेशक श्री प्रमोद सिंह जी ने किया कार्यक्रम में सभी प्रवक्ता गण सत्येंद्र सिंह कमलेश यादव कुबेर नाथ पांडे रविंद्र जी गांधीजी उपेंद्र राजभर दिनेश लाल श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे छात्र छात्र छात्राओं ने आचार्य जी को पुष्पांजलि अर्पित करके कार्यक्रम में अपनी बात रखी आभार ज्ञापन भूतनाथ तिवारी ने किया।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad