Breaking News

गाजीपुर: बगैर जांच सुविधा के स्वाइन फ्लू से दो-दो हाथ की तैयारी

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर स्वाइन फ्लू जैसे जानलेवा बीमारी से निबटने के लिए स्वास्थ्य महकमे ने तैयारी शुरू कर दी है। सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में दवा व मास्क की पर्याप्त व्यवस्था की जा रही है। साथ ही जिला अस्पताल में वार्ड बनाकर दस बेड व सीएचसी-पीएचसी में पांच बेड पीड़ित मरीजों के लिए सुरक्षित किए जा रहे हैं। उधर, दूसरी स्याह तस्वीर यह कि इस बीमारी की पहचान के लिए जांच की सुविधा उपलब्ध नहीं है। ऐसे में इस बीमारी से पीड़ित मरीजों का इलाज हो पाना एक सवाल बनकर रह गया है।

प्रदेश के पश्चिमी इलाकों में स्वाइन फ्लू का प्रकोप फैलते ही शासन की ओर से अलर्ट जारी करते हुए दवा व मास्क के साथ सरकारी अस्पतालों में वार्ड बनाने का निर्देश तो जारी कर दिया गया, लेकिन उपचार से पूर्व होने वाली जांच की प्रक्रिया शून्य है। जबकि पांच वर्ष पूर्व नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में चार लोगों की मौत इस बीमारी से हो गई थी। ऐसे में सिर्फ मास्क व दवा की उपलब्धता बिना जांच की सुविधा के बेकार साबित होती दिख रही है। स्वाइन फ्लू एक ऐसी संक्रामक बीमारी है जिसकी अनदेखी करने पर उसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। इस हकीकत को जानने के बाद भी विभागीय अधिकारी जांच की सुविधा उपलब्ध न होने का ठिकरा शासन पर फोड़ अपना पल्ला झाड़ ले रहे हैं।

मास्क व दवा सीएचसी-पीएचसी को उपलब्ध कराने के साथ बेड भी सुरक्षित कराया जा रहा है। जांच के लिए कीट की भी मांग शासन से की गई है। जब तक जांच की व्यवस्था नहीं होती तब-तक इस बीमारी से पीड़ित मरीज को होने वाली दिक्कत के अनुसार उपचार होगा।- डा.जीसी मौर्या, सीएमओ

फेफड़े के मरीजों के लिए खतरनाक
स्वाइन फ्लू फेफड़े के रोगियों के लिए खतरनाक साबित होता है। छोटे बच्चों व बुजुर्गों के इसके चपेट में आने की आशंका अधिक होती है। इसके अलावा कम प्रति कम प्रतिरोधक क्षमता और पहले से बीमार लोग भी इस बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। अगर कोई व्यक्ति लंबे समय से दवाएं ले रहा हो या उसका इलाज चल रहा हो, ऐसे व्यक्ति के लिए भी यह बीमारी जानलेवा साबित हो सकता है। इस बीमारी का समय से उपचार नहीं होने पर जानलेवा साबित हो सकता है।

क्या रखें सावधानी
  • स्वाइन फ्लू से संक्रमित व्यक्ति को अपना मुंह ढंककर रहना चाहिए।
  • घर में साफ-सफाई का ध्यान रखें।
  • लक्षण होने पर पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ लें और खुद से कोई दवा न लें। ---
  • क्या हैं स्वाइन फ्लू के लक्षण
  • नाक बहने की शिकायत।
  • छींक आना, लगातार खांसी।
  • सीर दर्द, नींद न आना ज्यादा थकान।
  • मांसपेशियों में दर्द या अकड़न।


कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();