Breaking News

उत्तर प्रदेश में कमिश्नरी सिस्टम लागू, सुजीत पांडेय लखनऊ और आलोक सिंह होंगे नोएडा के पहले कमिश्नर

नए पुलिसिंग सिस्टम में एडिशनल डायरेक्टर जनरल रैंक के अधिकारी पुलिस आयुक्त होंगे, जबकि 9 एसपी रैंक के अधिकारी तैनात होंगे.
उत्तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने पुलिसिंग सिस्टम में बड़ा बदलाव किया है. राज्य की राजधानी लखनऊ और गौतमबुद्ध नगर में अब कमिश्नरी सिस्टम लागू होगा. कैबिनेट ने इसे मंजूरी दे दी है.

सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ” पुलिस सुधार का सबसे बड़ा कदम हमने उठाया है. लखनऊ और गौतम बुद्ध नगर में कमिश्नरी सिस्टम लागू करने को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है.” योगी ने कहा, “पुलिस एक्ट में 10 लाख से ऊपर की आबादी पर कमिश्नरी सिस्टम लागू करने का नियम है, लेकिन राजनीतिक इच्छाशक्ति और कानून व्यवस्था को सुधारने की कोशिशों में कमी के चलते अभी तक की सरकारों ने इसे लागू करने में रुचि नही दिखाई.”

ये होंगे लखनऊ और नोएडा के पहले कमिश्नर
लखनऊ ओर नोएडा में कमिश्नरी सिस्टम के लागू होने की घोषणा के साथ ही दोनों शहरों के नए कमिश्नरों के नाम की भी घोषणा कर दी गई है. IPS सुजीत पांडेय लखनऊ के पहले पुलिस कमिश्नर होंगे. पांडेय 1994 बैच के IPS हैं.  सुजीत पांडेय सात साल CBI में भी तैनात रहे हैं. वहीं IPS आलोक सिंह को नोएडा पुलिस कमिश्नर की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी. आलोक सिंह 1995 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. अभी वे मेरठ जोन के आईजी (IG) हैं.


कैसे होगा नया पुलिसिंग सिस्टम ?
सीएम योगी ने बताया,”लखनऊ शहर में 40 लाख और गौतम बुद्ध नगर में 25 लाख आबादी है.” नए सिस्टम के तहत दोनों शहरों के अर्बन एरिया के थाने कमिश्नर के अंडर होंगे. जबकी रूरल एरिया (ग्रामीण क्षेत्र) में पुराना सिस्टम ही जारी रहेगा. इस हिसाब से लखनऊ अर्बन के 40 थाने कमिश्नर के अधीन होंगे और रूरल के 5 थाने पुलिस अधीक्षक (SP) के अधीन होंगे. वहीं गौतम बुद्ध नगर में कोई ग्रामीण थाना न होने की वजह से पूरा इलाका कमिश्नर के अधीन होगा.


योगी ने कहा, “एडिशनल डायरेक्टर जनरल रैंक के अधिकारी पुलिस आयुक्त होंगे, जबकि 9 एसपी रैंक के अधिकारी तैनात होंगे. एक महिला एसपी रैंक की अधिकारी महिला सुरक्षा के लिए इस नए सिस्टम में तैनात होगी”.

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();