Breaking News

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लगे लोगों के साथ गलत व्यवहार से बहुत दुख हुआ- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

गाजीपुर न्यूज़ टीम, अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के लोगों से बात करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लगे लोगों के साथ गलत व्यवहार पर बहुत दुख हुआ। उन्होंने कहा कि डॉक्टर, नर्स, लैब टेक्निशियन समेत तमाम लोग इस महामारी से लड़ने में लगे हुए हैं। रात-दिन मेहनत कर रहे हैं और सिर्फ दो-तीन घंटे सो पाते हैं। ऐसे लोगों के साथ गलत व्यवहार की खबर पीड़ा पहुंचाने वाली थी। उन्होंने कहा कि यह समय एक साथ खड़े होने का है।

जीवन आशा और विश्वास से चलता है
प्रधानमंत्री ने कहा कि अस्पतालों में लोग 18-18 घंटे काम कर रहे हैं। कई जगह अस्पतालो में, हेल्थ सेक्टर से जुड़े लोगों को 2-3 घंटे से ज्यादा सोने को नहीं मिल रहा। कितने ही सिविल सोसायटी के लोग हैं जो गरीबों की मदद के लिए दिन-रात एक किए हुए हैं। उन्होंने कहा कि निराशा फैलाने के लिए हजारों कारण हो सकते हैं लेकिन जीवन तो आशा और विश्वास से ही चलता है। नागरिक के नाते कानून और प्रशासन को जितना ज्यादा सहयोग करेंगे, उतने ही बेहतर नतीजे निकलेंगे।

21 दिन में यह लड़ाई जीतने की कोशिश
उन्होंने कहा कि हम 21 दिन में कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई को जीतने की कोशिश करेंगे। पीएम मोदी ने कहा कि महाभारत जैसा युद्ध 18 दिनों में खत्म हो गया था। पीएम मोदी ने कहा कि महाभारत के युद्ध में भगवान श्रीकृष्ण महारथी, सारथी थें, आज 130 करोड़ महारथियों के बलबूते पर हमें कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को जीतना है। इसमें काशीवासियों की बहुत बड़ी भूमिका है।

काशी का अर्थ ही शिव यानी कल्याण
पीएम मोदी ने कहा कि काशी का सांसद होने के नाते मुझे ऐसे समय में आपके बीच होना चाहिए था। लेकिन आप यहां दिल्ली में जो गतिविधियां हो रही हैं, उससे भी परिचित हैं। यहां की व्यस्तता के बावजूद मैं वाराणसी के बारे में निरंतर अपने साथियों से अपडेट ले रहा हूं। उन्होंने कहा कि कोरोना की इस लड़ाई में काशी के लोगों की बड़ी भूमिका है। काशी ज्ञान की खान है। संकट की इस घड़ी में काशी सबके लिए उदाहरण प्रस्तुत कर सकती है। आज लाकडॉउन की परिस्थिति में देश को संयम, समन्वय, साधना, सेवा और समाधान काशी देश को सीखा सकती है। काशी का अर्थ ही शिव यानी कल्याण है।

कोरोना से लाखों लोग हुए ठीक
पीएम मोदी ने कहा कि लोग कई बार जानते हुए भी सावधानी नहीं बरतते हैं। नागरिक के रूप में अपने ध्यान देना चाहिए। हमें घर में रहना चाहिए। कोरोना जैसी बीमारी से बचने का यही एक मात्र उपाय है। आप ये भी ध्यान रखिए कोरोना से संक्रमित दुनिया में एक लाख से अधिक लोग ठीक भी हो चुके हैं। भारत में भी दर्जनों लोग कोरोने से बाहर निकले हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();