Breaking News

गाजीपुर में कोविड लेवल 1 चालू आइसोलेशन वार्ड में तब्दील हुआ शहीद स्मारक महाविद्यालय

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर। कोरोना संक्रमितों की बढ़ रही संख्या को देखते हुए अब स्वास्थ्य विभाग ने मुहम्मदाबाद स्थित कोविड लेवल वन अस्पताल को एक्टिव कर दिया है। इसमें जनपद सहित वाराणसी, चंदौली व जौनपुर के कोरोना पाजिटिव मरीजों का उपचार होगा। इसके लिए चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों की टीम ने मोर्चा भी संभाल लिया है। साथ ही शहीद स्मारक राजकीय महाविद्यालय को आइसोलेशन वार्ड में परिवर्तित करके 150 बेड भी सुरक्षित कर लिया गया है, जिससे किसी भी विकट परिस्थिति से निबटा जा सके।

हाइरिस्क गैर प्रांतों से लौटे प्रवासियों के कोरोना संक्रमित मिलने से संख्या बढ़ती जा रही है। अब तक ऐसे मरीजों को उपचार के लिए 100 बेड से लैस वाराणसी के पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय अस्पताल भेजा जा रहा था। वहां बेड भर जाने की दशा में जौनपुर स्थित चांदपुरी सीएचसी पर बने कोविड लेवल वन अस्पताल में भर्ती कराया जाने लगा। इसके बाद गाजीपुर, वाराणसी, जौनपुर व चंदौली में कोरोना संक्रमितों की लगातार बढ़ रही संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने मुहम्मदाबाद स्थित 30 बेड के कोविड लेवल वन अस्पताल को एक्टिव कर दिया है। साथ ही कुछ दूरी पर स्थित महाविद्यालय को 150 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है, जिससे संक्रमितों को भर्ती करके उपचार किया जा सके।

तीन नंबर की टीम तैयार, चार नंबर रिजर्व में
स्वास्थ्य विभाग ने संक्रमितों के उपचार के लिए प्रशिक्षित डाक्टरों व स्वास्थ्य कर्मियों की टीम गठित की है। एक-एक टीम में 25-25 कर्मियों को रखा गया है, जिनकी शिफ्टवार ड्यूटी लगाई जाएगी। टीम संख्या एक पूर्व में ही पांच दिन की ड्यूटी कर चुकी है, जबकि टीम संख्या दो के सदस्यों को वाराणसी भेजा गया है। ऐसे में टीम संख्या तीन को एक्टिव करने के साथ टीम संख्या चार के सदस्यों को रिजर्व में रखा गया है। एक टीम 14 दिनों तक कोरोना संक्रमितों का उपचार करेगी। इसके बाद उन्हें क्वारंटाइन कर दिया जाएगा, जबकि रिजर्व दूसरी टीम कोरोना मरीजों के उपचार के लिए एक्टिव हो जाएगी।

एक टीम में डाक्टरों व कर्मियों की संख्या
डाक्टर-6, स्टाफ नर्स-6, फार्मासिस्ट-2,
लैब सहायक-2, वार्ड ब्वॉय-3, स्वीपर-6।

गाजीपुर समेत आस-पास के जनपदों में बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए मुहम्मदाबाद कोविड लेवल वन अस्पताल को एक्टिव कर दिया गया है। इसके अलावा कुछ दूरी पर स्थित महाविद्यालय को आइसोलेशन वार्ड में परिवर्तित कर 150 बेड सुरक्षित कर लिया गया है, जिससे पाजिटिव मरीजों को संख्या बढ़ने पर उन्हें भर्ती करके उपचार किया जा सके।-डा. उमेश कुमार, नोडल कोरोना महामारी।

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();