Breaking News

कोरोना से बचाएंगी मिठाइयां! इम्युनिटी बढ़ाने वाली सामग्री से हुई है तैयार

गाजीपुर न्यूज़ टीम, वाराणसी। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने पर लोगों का जोर देखते हुए बनारस के प्रमुख मिठाई कारोबारियों ने रक्षाबंधन के लिए इम्युनिटी बढ़ाने वाली मिठाइयां तैयार की हैं। कुछ पुरानी मिठाइयों की रेसिपी में बदलाव करते हुए उन्हें नया स्वाद और स्वरूप दिया गया है। 

यह कहना गलत नहीं होगा कि कोरोना के कारण पारंपरिक बनारसी मिठाईयों का ट्रेंड भी बदल गया है। इम्युनिटी बूस्ट करने के लिए मिठाई में जहां मेवे की मात्र बढ़ा दी गई है, वहीं हल्दी, केसर, छोटी इलाइची, जायफल, सोंठ, पीपल, काली मिर्च, काला जीरा, दालचीनी और तेजपत्ता का उपयोग भी किया गया है। इन सभी का मिश्रण मिठाइयों में अलग-अलग मात्रा में डाला गया है। चीनी की मात्रा भी पहले की तुलना में कम की गई है। 

लहुराबीर के मिठाई विक्रेता शुभम यादव ने बताया कि कोरोना की वजह से अन्य मिठाई की अपेक्षा इम्युनिटी बढ़ाने वाली मिठाइयों की मांग बढ़ी है। लोग इनमें शुगर फ्री की भी मांग कर रहे हैं। इसलिए दोनों तरह की मिठाइयां तैयार की जा रही हैं। सोनारपुरा स्थित एक नामी दुकान के संचालक अनूप यादव का कहना है कि पारंपरिक मिठाइयों में औषधीय गुणों वाली खाद्य सामग्री मिलाकर इनकी गुणवत्ता पहले की तुलना में अधिक बढ़ा दी गई है। इन मिठाइयों में अंजीर ड्राईफ्रूट लड्डू, खजूर मेवा लड्डू, अंजीर मेवा लड्डू, काजू ड्राईफ्रूट कटोरी, काजू गिलौरी, काजू कलश, काजू मेवा बाइट, काजू व्हाइट बॉल, काजू चाकलेट बॉल, ड्राईफ्रूट गोंद लड्डू आदि प्रमुख हैं।

डायबिटिक भी कर सकते हैं सेवन
डायबिटीज के रोगियों को ध्यान में रखते हुए भी इम्युनिटी बढ़ाने वाली मिठाइयां बनाई गई हैं। चेतगंज के मिठाई विक्रेता दीपक जायसवाल ने बताया कि इन मिठाइयों को शुगर फ्री बनाया गया है। साथ ही इनमें जायफल, सोंठ, पीपल, दालचीनी और स्याह जीरा का उपयोग भी किया गया है। ऐसे में डायबिटीज के रोगी भी निश्चिंत होकर इनका आनंद ले सकते हैं। 

कई दिनों तक ले सकते हैं स्वाद
महमूरगंज के मिठाई विक्रेता राजेंद्र यादव ने बताया कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली इन मिठाइयों को कई दिनों तक रख कर इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए इन मिठाइयों में ड्राई फ्रूट, हल्दी और केसर की मात्रा पहले से अधिक कर दी गई है ताकि ये जल्दी खराब न हों। यह बच्चों से लेकर बुजुर्गो तक के लिए फायदेमंद हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();