गाजीपुर: विजय मिश्र का ‘विकास’, अब झेल रहीं सरिता - Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: विजय मिश्र का ‘विकास’, अब झेल रहीं सरिता

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर पूर्ववर्ती सपा सरकार में मंत्री रहे तत्कालीन सदर विधायक विजय मिश्र के विकास कार्यों का खामियाजा नगर पालिका चेयरमैन सरिता अग्रवाल भुगत रही हैं। अपने गृह जिला गाजीपुर के दो दिवसीय दौरे पर आए केंद्रीय मंत्री डॉ.महेंद्र नाथ पांडेय से अंंतिम दिन रविवार को उनके पैतृक गांव पक्खनपुर(मिर्जापुर) में मिलीं और इस मामले में मदद की गुहार लगाईं।

विजय मिश्र ने अपने मंत्रित्व काल में वित्तीय साल 2016-17 में शासन से गाजीपुर नगर के लिए त्वरित आर्थिक विकास योजना के तहत 23 करोड़ 60 लाख रुपये की लागत से 215 सड़कें और गलियों के नवनिर्माण के कार्य स्वीकृत कराए थे। उस कुल धनराशि में से मात्र चार करोड़ 73 लाख रुपये निर्गत हुए, लेकिन विजय मिश्र और उनके लोगों ने अपनी इस उपलब्धि का खूब ढिढोरा पीटा था। तब भले कुल रकम नहीं आई थी, लेकिन उन पूरे विकास कार्यों के ठेके हथियाने के लिए ठेकेदारों में होड़ मच गई थी। चहेते ठेकेदारों को चुन-चुन कर विकास कार्यों के ठेके दिए जाने लगे थे। उसी बीच नगर पालिका के तत्कालीन चेयरमैन विनोद अग्रवाल के दो बार वित्तीय, प्रशासनिक अधिकार छीने गए। उन्हें सस्पेंड किया गया। उनके खिलाफ उस कार्रवाई को उन्हीं ठेकों-पट्टों के आवंटन से जोड़ा गया। कहा गया कि विनोद अग्रवाल के रहते उसमें मनमानी संभव नहीं थी। लिहाजा उन्हें चेयरमैन की कुर्सी से बेदखल कराना जरूरी समझा गया। 

हालांकि श्री अग्रवाल की हर बार हाईकोर्ट के हस्तक्षेप से बहाली हुई और विजय मिश्र की खूब किरकिरी हुई, लेकिन उधऱ त्वरित आर्थिक विकास योजना के तहत नवनिर्माण के लिए स्वीकृत सड़कें, गलियां खोद दी गईं। कई जगह नवनिर्माण शुरू करा दिए गए। काम आगे बढ़ते कि सपा सरकार चली गई और सब कुछ ठप हो गया। ज्यादतर खुदी गलियां, सड़कें जस की तस पड़ी हैं। इनमें मिश्रबाजार से आमघाट सहकारी कॉलोनी के लिए जाने वाली गली भी शामिल है। अब बारिश का मौसम शुरू है। 

जाहिर है कि खोद कर अथवा अधुरी छोड़ी गईं गलियों, सड़कों से बारिश में लोगों का गुजरना दुश्वार हो जाता है और वे नगर पलिका को कोसते हैं। अब विनोद अग्रवाल चेयरमैन नहीं हैं। उनकी पत्नी सरिता अग्रवाल चेयरमैन हैं और इस अग्रवाल दंपति को विजय मिश्र के ‘विकास’ से होने वाले दर्द का बखूबी एहसास है। शायद यही वजह है कि यह दंपति लगातार लिखापढ़ी के साथ ही कई बार लखनऊ पहुंच कर विभाग में योजना के लंबित शेष धनराशि के आवंटन की गुजारिश कर चुकी है। जाहिर है इन पर विजय मिश्र के कृपापात्र रहे ठेकेदारों के भुगतान का भी दबाव होगा।

इस बाबत केंद्रीय मंत्री डॉ.महेंद्र नाथ पांडेय से मुलाकात में नगर पालिका चेयरमैन सरिता अग्रवाल ने बसपा सरकार के काल में गृह कर में स्वकर प्रणाली में 50 प्रतिशत की रियायत दिलाने की भी लिखित गुजारिश की। इस मौके पर सरिता अग्रवाल के साथ उनके पति पूर्व चेयरमैन विनोद अग्रवाल के अलावा सभासद कुंवर बहादुर सिंह, रूपक तिवारी, अजय कुशवाहा, भाजपा आईटी सेल के जिला संयोजक कार्तिक गुप्त, मानु वर्मा, हर्षजीत सिंह आदि भी थे।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad