Breaking News

गाजीपुर: टूटते परिवारों को जोड़ रहा वन स्टाप सेंटर

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर उत्पीड़न की शिकार महिलाओं और युवतियों के लिए वन स्टाप सेंटर किसी संजीवनी से कम नहीं है। यह सेंटर कानून के दायरे में रहकर पीड़ित महिलाओं को सुलह-समझौते के द्वारा राहत देने का काम कर रहा है। आपसी दंपती विवाद में टूटते परिवारों व कानूनी अड़चन में पड़कर कराह रहे रिश्तों को यह जोड़ने का काम कर रहा है। वन स्टाप सेंटर का उद्देश्य निजी और सार्वजनिक स्थानों पर, परिवार व समुदाय के भीतर और कार्यस्थल पर हिसा से प्रभावित हुई महिलाओं का समर्थन करना है। जिला अस्पताल के पास स्थित वन स्टाप सेंटर हर रोज कई मामलों को सुलझा कर परिवार में फिर से खुशियां लौटा रहा है। यहां अब तक 1156 मामले आए हैं जिसमें से 689 को निबटा दिया गया।

यौन उत्पीड़न, यौन शोषण, घरेलू हिसा, तस्करी, सम्मान संबंधी अपराध, एसिड हमलों या छेड़छाड़ के प्रयास के कारण किसी भी तरह की हिसा का सामना करने वाली पीड़ित महिलाओं को विशेष सेवाओं के साथ वन स्टाप सेंटर में आसरा दिया जाता है। इसमें चिकित्सा, कानूनी और मनोवैज्ञानिक सहायता सहित सेवाओं की समन्वित श्रेणी तक पहुंच हो सके इसके लिए इसे हेल्पलाइन नंबर-181 के साथ जोड़ा गया है। कोई भी पीड़ित महिला या युवती इस पर फोन कर सहायता ले सकती है। 181 टीम द्वारा उसे तत्काल उसके स्थान से पिकअप किया जाता है। इसके बाद वन स्टाप सेंटर दोनों पक्षों को बुलाकर सुलह-समझौता कराने की कोशिश करता है। बात न बनने पर निशुल्क कानूनी सहायता भी उपलब्ध कराया जाता है। वन स्टाप सेंटर का उद्देश्य

हिसा से प्रभावित महिलाओं को एक छत के नीचे निजी और सार्वजनिक दोनों जगहों पर एकीकृत समर्थन और सहायता प्रदान करना। महिलाओं के खिलाफ किसी भी प्रकार की हिसा से लड़ने के लिए एक छत के नीचे चिकित्सा, कानूनी, मनोवैज्ञानिक और परामर्श सहित सेवाओं की एक श्रृंखला के लिए तत्काल आपातकालीन और गैर चिकित्सा सुविधा तक पहुंच प्रदान करना। हिसा, जाति, वर्ग, धर्म क्षेत्र यौन अभिविन्यास या वैवाहिक स्थिति के बावजूद प्रभावित 18 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों सहित सभी महिलाओं का समर्थन करता है। 

18 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों के लिए किशोर न्याय बोर्ड बच्चों की देखभाल और संरक्षण अधिनियम-2000 के तहत स्थापित संस्थान और प्राधिकरण यौन अपराध अधिनियम-2012 से बच्चों के संरक्षण को वन स्टाप सेंटर के साथ जोड़ा जाता है। ''वन स्टाप सेंटर उत्पीड़न की शिकार महिलाओं की मदद करता है। इससे घरेलू हिसा की शिकार महिलाओं को काफी सहायता मिल रही है। वन स्टाप सेंटर की सदस्य बातचीत के माध्यम से ही अधिकतर विवाद सुलझा देती हैं। नहीं सुलझने पर उन्हें निश्शुल्क कानूनी सहायता भी दी जाती है।-अनिल कुमार, जिला प्रोबेशन अधिकारी।

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();