गाजीपुर: पराली जलाने पर पांच किसानों के पर एफआइआर दर्ज - Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Ghazipur Samachar in Hindi ✔

Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Ghazipur Samachar in Hindi ✔

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, गाजीपुर खेल समाचार, गाजीपुर राजनीति न्यूज़, गाजीपुर अपराध समाचार

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

मंगलवार, 3 दिसंबर 2019

गाजीपुर: पराली जलाने पर पांच किसानों के पर एफआइआर दर्ज

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर लगातार बढ़ते प्रदूषण को लेकर पराली जलाने वाले किसानों पर डंडा चलाना शुरू कर दिया है। मुहम्मदाबाद तहसील क्षेत्र में जांच और सेटेलाइट से मिली फोटो के आधार पर पराली वाले 5 किसानों के खिलाफ डीएम के निर्देश पर एफआईआर दर्ज किया गया। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) स्तर पर काबू पाने के लिए खेतों में पराली जलाने वाले किसानों पर कार्रवाई करते हुए एफआईआर दर्ज कर जुर्माना लगाया गया। देर रात पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक में डीएम ने अन्य कई शिकायतों की जांच का निर्देश दिया है।पराली जलाते पकड़ने पर किसान पर पांच हजार और क्षेत्रीय लेखपाल पर 2500 रुपये का जुर्माना लगाने की बात भी कही। प्रशासन की कार्रवाई से भारतीय किसान यूनियन और किसान संगठन खफा है।

शासन ने पराली जलाने के मामले में कुछ जनपदों के डीएम को नोटिस जारी किया गया है। इसके बाद गाजीपुर में जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य और एसपी समेत पूरी मशीनरी सक्रिय हो गई है। पराली जलाने के मिले साक्ष्यों के आधार पर ही किसानों पर एफआईआर की कार्रवाई की गई है। लगातार पराली जलने की घटनाओं के बाद पुलिस व तहसील प्रशासन गांव-गांव खेतों में निगाह रखे हुए है। पराली जलाने के मामले में जिले की पुलिस ने 5 किसानों पर एफआईआर दर्ज की है।इसमें सभी मुहम्मदाबाद तहसील क्षेत्र के जीवपुर के किसान शामिल हैं। पुलिस ने किसान कपिल देव राय पुत्र मनबहाल राय, उमेश राय पुत्र रमाशंकर राय, राजगोबिंद पुत्र रामदेव, उमाशंकर राय पुत्र महादेव राय, अशोक पुत्र सूर्यनाथ को नामजद किया है। जिलाधिकारी के निर्देश पर धारा 188 व 278 में प्रदूषण फैलाना और धारा 290 व 291 सरकारी आदेश की अवहेलना करने के आरोप में अभियोग पंजीकृत किया गया।

दूसरी ओर देर रात जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य ने सभी एसडीएम और सीओ के साथ बैठक की। डीएम ने सख्त निर्देश दिया कि जिले के किसी भी क्षेत्र में पराली नहीं जलनी चाहिए। टीम बनाकर अधिकारी सुबह से लेकर रात तक चक्रमण करेंगे। अधिकतम किसान देर रात से भोर में तक पराली जलाते हैं अगर कोई किसान ऐसा करते मिले तो उसके खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाए। इसके अलावा नहीं मानने पर किसानों की गिरफ्तारी भी की जाए। लापरवाह अधिकारियों और लेखपालों पर कार्रवाई की जाएगी।

यह है जुर्माना
डीएम के अनुसार दो एकड़ वाले किसानों से 2500 रुपये, पांच एकड़ से ऊपर वाले किसानों से 5 हजार रुपये प्रति एकड़ तथा बड़े किसानों से 15 हजार रुपये प्रति एकड़ का जुर्माना वसूला जाएगा। इसके अलावा संबंधित क्षेत्रो ंमें पराली जलने पर लेखपालों को भी लापरवाह माना जाएगा। उनसे 2500 रुपये जुर्माना वसूला जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Post Top Ad