गाजीपुर: एआरटीओ ने थमाया गुलाब का फूल तो झेंप गए बाइक सवार - Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Ghazipur Samachar in Hindi ✔

Ghazipur News ✔ | ग़ाज़ीपुर न्यूज़ | Ghazipur Samachar in Hindi ✔

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, गाजीपुर खेल समाचार, गाजीपुर राजनीति न्यूज़, गाजीपुर अपराध समाचार

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

मंगलवार, 14 जनवरी 2020

गाजीपुर: एआरटीओ ने थमाया गुलाब का फूल तो झेंप गए बाइक सवार

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर 31वें सड़क सुरक्षा सप्ताह के तहत सोमवार को ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के साथ एआरटीओ व यातायात पुलिस काफी नरमी से पेश आए। हेलमेट न लगाने वाले वाहन चालकों को गुलाब का फूल भेंट किया तो वह झेंप गए। एआरटीओ राम सिंह व टीएसआइ सुधीर त्रिपाठी ने नियमों के पालन की सीख देने के साथ ही चेताया भी कि अगर दोबारा पकड़े गए तो आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।


एआरटीओ व यातायात प्रभारी नगर के भुतहियाटांड़ चौराहे पर अपने दलबल के साथ अचानक वाहनों को रोकना शुरू किए तो अफरा-तफरी मच गई। चौराहे पर बगैर हेलमेट जा रहे दो पहिया वाहन चालकों को गुलाब का फूल भेंट कर हेलमेट लगाने का आह्वान किया। इसके साथ ही यातायात नियमों का पालन करने के लिए प्रेरित किया। बिना हेलमेट के बाइक चला रहे लोगों से सवाल भी किए कि आपने हेलमेट क्यों नहीं पहना? इसका किसी के पास जवाब कोई नहीं था। एआरटीओ ने जागरूक करते हुए कहा कि हेलमेट आपकी सुरक्षा के लिए ही है। इसे पहनना अपनी आदत में डाल लें। हादसे में हेलमेट काफी कारगर साबित होता है। वहीं टीएसआइ सुधीर त्रिपाठी ने बाइक चालकों को समझा ने के साथ ही वादा लिया कि वह आज के बाद हेलमेट अवश्य लगाएंगे। इस पर बाइक सवारों ने कल से ही हेलमेट पहनकर बाइक चलाने का संकल्प लिया। बहुत चालकों को जैसे गुलाब का फूल भेंट किया गया उन्होंने दोनों हाथ जोड़कर गलती स्वाकीर की। आरआइ संतोष कुमार पटेल सहित दर्जनों की संख्या में यातायात पुलिस टीम के सदस्य रहे।


नेत्र चिकित्सक डा. अंबिका प्रसाद को किया सम्मानित
चेकिग अभियान के पूर्व एआरटीओ कार्यालय में कर्मियों सहित आए लोगों को नेत्र परीक्षण भी किया गया। इस दौरान एआरटीओ राम सिंह ने नेत्र चिकित्सक डा. अंबिका प्रसाद को अंगवस्त्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। डा. अंबिका जांच कर सभी को आवश्यक सलाह भी दिए। वरिष्ठ लिपिक राजेश कुमार सिंह, पीयूष श्रीवास्तव, शिशिरचंद्र आदि रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Post Top Ad