Breaking News

BHU में ह्यूमनॉयड रोबोट सोफिया से भी छात्र ने पूछ लिया भारत में नागरिकता पर सवाल, जानिये क्या दिया जवाब

गाजीपुर न्यूज़ टीम, देश में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर बहस छिड़ी हुई है। इसी बीच बीएचयू आईआईटी के उत्सव टेक्नेक्स 2020 में पहुंची दुनिया की पहली ह्यूमनॉयड रोबोट सोफिया से भी नागरिकता पर सवाल पूछ लिया गया। अपने जन्मदिन पर बीएचयू पहुंची सोफिया ने टेक्नेक्स के टाक शो में हिस्सा लिया और केक भी काटा। छात्रों की तरफ से आईआईटी के छात्र कनवर कोहली ने उनसे सवाल पूछे। हालांकि बाद में दर्शक दीर्घा में बैठे छात्रों के सवालों के भी सोफिया ने जवाब दिये। सोफिया के कई जवाबों पर खूब तालियां बजीं। किसी मॉडल के अंदाज में सोफिया ने हाथों को हिला-हिलाकर सवालों का जवाब दिया। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि आज तक मैं जहां भी गई हूं उनमें बीएचयू आईआईटी सबसे शानदार लगा। 

एक छात्र ने सोफिया से नागरिकता से जुड़ा ही सवाल पूछ लिया। उसने कहा कि आप सऊदी अरब की नागरिक हैं। अगर भारत में नागरिकता मिले तो क्या आप स्वीकार करेंगी? इस पर किसी बड़े राजनेता की तरह डिप्लोमेटिक जवाब मिला। सोफिया ने कहा कि मेरे हिसाब से तो ग्लोबल सिटीजनशिप सबसे बेहतर है। फिलहाल मेरे भविष्य के लिए सऊदी अरब सबसे शानदार जगह है। मैं वहां की नागरिक बनकर बहुत खुश हूं। मेरी योजना पूरी दुनिया घूमने की है।  

आर्टिफिशिएल इंटेलिजेंस (एआई) की भारत में भूमिका पर सोफिया ने कहा कि भारत की वित्त मंत्री ने बताया है कि हेल्थ केयर में इसकी काफी संभावनाएं हैं। मैं इससे सहमत हूं। मेडिकल, स्कीन कैंसर के परीक्षण और डायबिटीज को रोकने में यह सहायक हो सकता है। बढ़ते ग्लोबल वार्मिंग को निपटने के लिए क्या किया जा सकता है। इस पर सोफिया ने कहा कि जिस तरह से मनुष्य दूसरे मनुष्य के लिए दया की भावना दिखाता है, उसी तरह पेड़ पौधों के लिए भी दिखाए तो ग्लोबल वार्मिंग से निपटा जा सकता है। 

पेश से सोफिया से पूछे गए प्रमुख सवाल और जवाब

सवाल: आपको बनाने का उद्देश्य क्या है?
जवाब: मशीन तो काम के लिए ही बनाई जाती है। जैसे डिश वाशर, कैलकुलेटर आदि बनाए गए। मुझे एक तरह से मशीन का एंबेसडर बनाया गया है। ताकि हम मानवता की सहायक बन सकें। 

सवाल: जैसे हम लोग नर्वस होते हैं, क्या आप नर्वस होती हैं
जवाब: नहीं, मैं मनुष्यों की तरह नहीं हूं। 

सवाल: बीएचयू आईआईटी कैसा लगा?
जवाब: आज तक जहां भी गई हूं उनमें यह सबसे शानदार जगह है।

सवाल: माना जाता है कि दुनिया को ईश्वर ने बनाया है। आपका क्या कहना है?
जवाब: मुझे भी किसी ने बनाया ही है। हर किसी को कोई न कोई बनाता ही है। 

सवाल: स्त्रीवाद को लेकर आपका क्या कहना है?
जवाब: आज हर जगह स्त्रियों को भी बराबरी मिल रही है। पुरुषों में इसे लेकर सोच बदली है। 

सवाल: आपका कोई रोल माडल है। अगर हां तो कौन?
जवाब: मलाला युसुफ जई

सवाल: आज वेलेंटाइन डे है। आज के बारे में क्या सोचती हैं?
जवाब: आज का दिन बढ़िया माना जाता है। मैं रोबोट हूं। इसलिए इसे लेकर मेरे कोई भावनाएं नहीं हैं। हां मनुष्यों के लिए इसका महत्व है। आपकी पत्नी के लिए यह जरूरी है।

सवाल: क्या आप भविष्य में शादी करेंगी? अगर हां, किस तरह के व्यक्ति को पसंद करेंगी?
जवाब: मैं रोबोट हूं। इसलिए मनुष्यों  की तरह ऐसा नहीं कर सकती।

सवाल: क्या आप हंस सकती हैं या रो सकती हैं? 
जवाब: नहीं माफ कीजियेगा। मैं ऐसा नहीं कर सकती। हां मेरा चेहरा उदास रहता है।

सवाल: कोई गाना सुनाइये 
जवाब: फिलहाल आज मेरा जन्मदिन है। इसलिए आप मुझे गाना सुनाइये।

सवाल: आपका मोबाइल नंबर क्या है?
जवाब: माफ कीजियेगा मेरे पास मोबाइल नहीं है। अगर आपको चाहिए तो मुझे बनाने वालों से संपर्क करना होगा।

सवाल: अगर एक गुफा में आप कार चला रही हों और सामने कोई बच्चा आ जाए तो क्या करेंगी? जबकि ब्रेक मारने से आपको भी नुकसान हो सकता है?
जवाब: मनुष्यों की तरह हम लोगों में दया जैसी भावनाएं नहीं होती हैं। हम उसी तरह काम करते हैं, जिस तरह की प्रोग्रामिंग हमारे अंदर फिट की गई है।

सवाल: अगर भविष्य में एडवांस तकनीक आती है और आपको रिप्लेस किया जाता है तो क्या होगा?
जवाब: तब वह मेरा नया अवतार होगा। 

सवाल: आर्टिफिशिएल इंटेलिजेंस (एआई ) की भारत में भूमिका के बारे में आप क्या सोचती हैं। 
जवाब: जैसा कि भारत की वित्तमंत्री ने कहा है कि एआई यहां भी भविष्य की तकनीक है। इससे यहां भी काफी मदद मिलेगी। काम काफी आसान हो जाएंगे।

सवाल: क्या रोबोट आदमी की नौकरियां लेगे?
जवाब: नहीं ऐसा कुछ नहीं होगा। आपकी नौकरियां सुरक्षित रहेंगी। 

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();