Breaking News

उत्तर प्रदेश में सभी 75 जिलों में लॉकडाउन 27 मार्च तक बढ़ा, DM को कर्फ्यू लगाने की छूट

गाजीपुर न्यूज़ टीम, लखनऊ, कोरोना वायरस के कहर से बचाव को लेकर बेहद गंभीर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है। प्रदेश में 25 मार्च की शाम छह बजे के 17 जिलों के लॉकडाउन को अब 27 मार्च तक बढ़ा दिया है। अब प्रदेश के सभी 75 जिलों को लॉकडाउन किया जाएगा। इसके साथ ही सभी जिलों तथा प्रदेश को दूसरे राज्यों से जोडऩे वाली सीमाओं को भी सील किया गया है। लॉकडाउन के दौरान भी अगर जिलों में लोगों ने अराजकता की तो फिर वहां के डीएम कर्फ्यू लगाने का फैसला लेंगे।

मुख्यमंत्री ने बताया कि स्थिति काफी गंभीर है। करीब एक लाख से ज्यादा लोग विदेशों से या फिर अन्य राज्यों से प्रदेश में आए हैं। वह लोग कहां हैं कैसे हैं इसकी जानकारी लगाई जा रही है। लिहाजा सरकार की तरफ से अब सभी जिलों में लॉकडाउन जैसे सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। प्रदेश में पहले 25 तक 18 जिलों में लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। अब उसको बढ़ाकर अब प्रदेश के सभी जिलों में लागू करने का फैसला लिया गया है। इस तरह से 25 मार्च से तीन दिनों तक पूरे प्रदेश में लॉक डाउन रहेगा। इसके साथ ही लॉकडाउन की स्थिति में कालाबाजारी से निपटने के लिए कहा कि जरूरत के सामान पर ज्यादा पैसे लिए गए तो कार्रवाई होगी। राज्य परिवहन की एक भी बस न चलें। डीएम सुनिश्चित करें। इस दौरान एंबुलेंस तथा आवश्यक सामान लाने वाली वाहनों को छूट मिलेगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से अपील की और कहा है कि अपने घरों में ही रहें और किसी भी तरह की पैनिक न फैलाएं। उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण को स्टेज थ्री तक पहुंचने से रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने काफी कड़े कदम उठाए हैं। शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि बुधवार से 27 मार्च तक पूरे प्रदेश में लॉकडाउन रहेगा। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान संबंधित अधिकारी सख्ती से फैसला लें। कर्फ्यू लगाने का फैसला जिले डीएम के पास होगा। अगर उन्हें जरूरत पड़ती है तो वे कर्फ्यू लगा सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि लोग सब्जी मंडी या फिर किराना व दावा की दुकानों पर अनावश्यक भीड़ न लगाएं। कहीं पर भी दो से ज्यादा लोग कहीं भी एकत्र न हों। उन्होंने कहा प्रमुख सचिव कृषि से कहा गया है कि लोगों को घरों से बाहर न निकलना पड़े और मंडियों में भीड़ न लगे। मोहल्लों में ही सभी चीजें मुहैया करवाई जाए। उन्होंने जनता से अपील की कि इस दौरान ऐसा न हो कि लोग ज्यादा चीजें खरीद लें। सभी को सीमित सप्लाई की जाए। मुख्यमंत्री ने साथ ही कहा कि किसी भी कीमत पर कालाबाजारी न हो।

योगी आदित्यनाथ ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि 23 करोड़ की जनता को इस महामारी से बचाने के लिए सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। अत: सभी लोगों अनुरोध है कि अपना सहयोग दें। सरकार पूरी तरह से तैयार है। किसी भी तरह की कमी नहीं है. मानवता की सेवा के लिए सभी योगदान करें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि किसी भी कीमत पर जमाखोरी, कालाबाजारी और अधिक मूल्यों पर सामान न बिकने पाए। मुख्यमंत्री ने व्यापारियों से भी सहयोग की अपील की है। उन्होंने कहा कि लोग ऐसा कुछ भी न करें कि सख्त कार्रवाई करनी पड़े।
उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी चुनौती
कोरोना वायरस के संबंध में अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी तथा प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि 30 करोड़ से अधिक लोग प्रदेश में हैं। यह बड़ी चुनौती है। हमें सोच समझकर कदम उठाने होंगे। देश में एक लाख से ज्यादा लोग विदेशों से आये हैं। हमारी सरकार के कदम उठाने की वैश्विक स्तर पर सराहना की गई है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने 15 अप्रैल तक पार्कों में नहीं जाने की अपील की है। फरवरी माह से ही सरकार लगतार कोरोना के लिए काम कर रही थी। उसके कारण ही सकारात्मक रिजल्ट आ रहा है। जनता और मीडिया का सहयोग लेकर अभूतपूर्व टीम वर्क हो रहा है। जिसकी सराहना भी डब्लूएचओ ने की है। 

उन्होंने कहा कि लॉक डाउन वाले जिलों में नहीं मानने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है ताकि कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोका जा सके। सरकार अब प्रदेश में पान, पान मसाला, गुटखा पर भी प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रही है। लोग जगह-जगह थूक रहे हैं। कल से लॉकडाउन का उलंघन करने पर अब कार्रवाई हो रही है। जिला प्रशासन लोगों को समझाए की कोई भी कोई गलत कदम न उठाएं। डायल 112 भी हर संभव मदद देगी। हम पान मसाला को भी प्रतिबंधित करने पर काम कर रहे है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जिलाधिकारियो के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सही इन्फॉर्मेशन मीडिया तक पहुंचने के लिए निर्देश दिए। सीएए का धरना खत्म हुआ। उन्हें प्रमुख सचिव गृह के नाते उन लोगो को धन्यवाद देता हूँ।

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();