Breaking News

कहानी: दिल को देखो

समय ने ऐसा क्या मोड़ लिया कि चेहरा देख कर बनी प्रतीक की छवि ने श्रेया के मन में उलटी करवट ली और वह समझ गई कि दिल को देखना चाहिए न कि चेहरे को...
सुबह से ही अनिलजी ने पूरे घर को सिर पर उठा रखा था, ‘‘अभी घर की पूरी सफाई नहीं हुई. फूलदान में ताजे फूल नहीं सजाए गए, मेहमानों के नाश्तेखाने की पूरी व्यवस्था नहीं हुई. कब होगा सब?’’ कहते हुए वे झुंझलाए फिर रहे थे. अनिलजी की बेटी श्रेया को इतने बड़े खानदान के लोग देखने आ रहे थे. लड़का सौफ्टवेयर इंजीनियर था. बहन कालेज में लैक्चरर और पिता शहर के जानेमाने बिजनैसमैन. अनिलजी सोच रहे थे कि यहां रिश्ता हो ही जाना चाहिए. अनिलजी आर्थिक रूप से संपन्न थे. सरकारी विभाग में ऊंचे पद पर कार्यरत थे. शहर में निजी फ्लैट और 2 दुकानें भी थीं. पत्नी अध्यापिका थीं. बेटा श्रेयांश इंटरमीडिएट के बाद मैडिकल की तैयारी कर रहा था और श्रेया का बैंक में चयन हो गया था. फिर भी लड़के के पिता विष्णुकांत के सामने उन की हैसियत कम थी. विष्णुकांत के पास 2 फैक्ट्रियां, 1 प्रैस और 1 फौर्महाउस था, जिस से उन्हें लाखों की आमदनी थी. इसी कारण से उन के स्वागतसत्कार को ले कर अनिलजी काफी गंभीर थे.

दोपहर 1 बजे कार का हौर्न सुनाई दिया तो अनिलजी तुरंत पत्नी के साथ अगवानी के लिए बाहर भागे. थोड़ी ही देर में ड्राइंगरूम में विष्णुकांत अपनी पत्नी और बेटी के साथ पधारे, परंतु श्रेया जिसे देखना चाहती थी, वह कहीं नजर नहीं आ रहा था. तभी जोरजोर से हंसता, कान पर स्मार्टफोन लगाए एक स्टाइलिश युवक अंदर आया. लंबे बाल, बांहों पर टैटू, स्लीवलैस टीशर्ट और महंगी जींस पहने वह युवक अंदर आते ही अनिलजी व उन की पत्नी को हैलो कह कर सोफे पर बैठ गया.

‘‘श्रेया,’’ मां ने आवाज दी तो श्रेया नाश्ते की ट्रे ले कर ड्राइंगरूम में पहुंची.

‘‘बैठो बेटी,’’ कह कर विष्णुकांत की पत्नी ने उसे अपने पास ही बैठा लिया. उन्होंने परिचय कराया, ‘‘प्रतीक, इस से मिलो, यह है श्रेया.’’

‘ओह तो प्रतीक है इस का नाम,’ सोचते हुए श्रेया ने उस पर एक उड़ती नजर डाल कर बस ‘हाय’ कह दिया. खुशनुमा माहौल में चायनाश्ते और लंच का दौर चला. सब की बातचीत होती रही, लेकिन प्रतीक तो जैसे वहां हो कर भी नहीं था. वह लगातार अपने स्मार्टफोन पर ही व्यस्त था. ‘‘अच्छा अनिलजी, अब हम चलते हैं. मुलाकात काफी अच्छी रही. अब प्रतीक और श्रेया एकदूसरे से दोचार बार मिलें और एकदूसरे को समझें, तभी बात आगे बढ़ाई जाए,’’ कह कर विष्णुकांतजी सपरिवार रवाना हो गए.

उन के जाते ही श्रेया भुनभुनाने लगी, ‘‘क्या पापा, यह कैसा लड़का चुना है आप ने मेरे लिए. कितना बिगड़ा हुआ लग रहा था.’’ अनिलजी श्रेया को समझाते हुए बोले, ‘‘ऐसा नहीं है बेटा, किसी की सूरत से उस की सीरत का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता. उस से दोचार बार मिलोगी तो उसे समझने लगोगी.’’ इस के 3 दिन बाद श्रेया सुबह बैंक जा रही थी. देर होने के कारण वह स्कूटी काफी तेज गति से चला रही थी कि तभी सड़क पर अचानक सामने आ गए एक कुत्ते को बचाने के चक्कर में उस की स्कूटी सड़क पार कर रहे एक बुजुर्ग से जा टकराई. स्कूटी एक ओर लुढ़क गई और श्रेया उछल कर दूसरी ओर सड़क पर गिरी. श्रेया को ज्यादा चोट नहीं लगी, पर बुजुर्ग को काफी चोट आई. उन का सिर फट गया था और वे बेहोश पड़े थे. श्रेया का तो दिमाग ही काम नहीं कर रहा था कि क्या करे. तभी प्रतीक वहां से गाड़ी से गुजर रहा था. उस ने यह दृश्य देखा तो वह फौरन अपनी गाड़ी से उतर कर श्रेया के पास आ कर बोला, ‘‘आर यू ओके.’’ फिर वह उन बुजुर्ग की ओर लपका, ‘‘अरे, ये तो बहुत बुरी तरह घायल हैं.’’

सुनसान सड़क पर मदद के लिए कोई नहीं था. अपनी चोटों की परवा न करते हुए श्रेया उठी और घायल बुजुर्ग को गाड़ी में डालने में प्रतीक की मदद करने लगी. ‘‘आइए, आप भी बैठिए. आप को भी इलाज की जरूरत है. मैं अपने मैकेनिक को फोन कर देता हूं, वह आप की स्कूटी ले आएगा.’’ श्रेया को भी गाड़ी में बैठा कर प्रतीक बड़ी तेजी से नजदीक के जीवन ज्योति हौस्पिटल पहुंचा. ‘‘डाक्टर अंकल, एक ऐक्सीडैंट का केस है. घायल काफी सीरियस है. आप प्लीज देख लीजिए.’’

‘‘डौंट वरी, प्रतीक बेटा, मैं देखता हूं.’’ डाक्टर साहब ने तुरंत घायल का उपचार शुरू कर दिया. एक जूनियर डाक्टर श्रेया के जख्मों की मरहमपट्टी करने लगी. प्रतीक जा कर कैंटीन से 2 कप चाय ले आया. चाय पी कर श्रेया ने राहत महसूस की.

‘‘हैलो पापा, मेरा एक छोटा सा ऐक्सीडैंट हो गया है पर आप चिंता न करें. मुझे ज्यादा चोट नहीं लगी पर एक बुजुर्ग को काफी चोटें आई हैं. आप जल्दी से आ जाइए. हम यहां जीवन ज्योति हौस्पिटल में हैं,’’ श्रेया ने पापा को फोन पर बताया. अब वह अपने को कुछ ठीक महसूस कर रही थी.

‘‘थैंक्यू वैरी मच, आप ने ऐनवक्त पर आ कर जो मदद की है, उस के लिए तो धन्यवाद भी काफी छोटा महसूस होता है. मैं आप का यह एहसान जिंदगी भर नहीं भूलूंगी.’’

‘‘अरे नहीं, यह तो मेरा फर्ज था. मैं ने डाक्टर अंकल को कह दिया है कि वे पुलिस को इन्फौर्म न करें. हौस्पिटल में सब मुझे जानते हैं, मेरे पिता इस हौस्पिटल के ट्रस्टी हैं.’’ तभी अनिलजी भी पत्नी सहित वहां पहुंच गए. श्रेया ने उन्हें घटना की पूरी जानकारी दी तो वे बोले, ‘‘प्रतीक बेटा, यदि आप वहां न होते तो बहुत मुसीबत हो जाती. थैंक्यू वैरी मच.’’

अनिलजी डाक्टर से बोले, ‘‘इन बुजुर्ग के इलाज का पूरा खर्च मैं दूंगा. प्लीज, इन से रिक्वैस्ट कीजिए कि पुलिस से शिकायत न करें.’’

‘‘डौंट वरी अनिलजी. विष्णुकांतजी इस हौस्पिटल के ट्रस्टी हैं. आप को कोई पैसा नहीं देना पड़ेगा,’’ डा. साहब मुसकराते हुए बोले. अगली शाम श्रेया कुछ फलफूल ले कर बुजुर्ग से मिलने हौस्पिटल पहुंची. उस ने उन से माफी मांगी. उस की आंखें भर आई थीं. ‘‘नहीं बेटी, तुम्हारी गलती नहीं थी. मैं ने देखा था कि तुम कुत्ते को बचाने के चक्कर में स्कूटी पर से नियंत्रण खो बैठी थी, तभी यह ऐक्सीडैंट हुआ. और फिर तुम्हें भी तो चोट लगी थी.’’

‘‘अरेअरे श्रेयाजी, रोइए मत. सब ठीक है,’’ तभी अंदर आता हुआ प्रतीक बोला.

‘‘आइए, कैंटीन में कौफी पीते हैं. यू विल फील बैटर,’’ दोनों कैंटीन में जा बैठे. कौफी पीने और थोड़ी देर बातचीत करने के बाद श्रेया घर वापस आ गई. फिर तो मुलाकातों का सिलसिला चल पड़ा. एक दिन जब श्रेया और प्रतीक रैस्टोरैंट में बैठे थे कि

तभी प्रतीक का एक दोस्त भी वहां आ गया. वे दोनों किसी इंस्टिट्यूट के बारे में बात करने लगे. श्रेया के पूछने पर प्रतीक ने बताया कि वह और उस के 3 दोस्त हर रविवार को एक कोचिंग इंस्टिट्यूट में मुफ्त पढ़ाते हैं, जहां होनहार गरीब छात्रों को इंजीनियरिंग की तैयारी कराई जाती है. यही नहीं वे लोग उन छात्रों की आर्थिक सहायता भी करते हैं. श्रेया यह सुन कर अवाक रह गई. उस दिन घर पहुंच कर प्रतीक के बारे में ही सोचती रही. सुबह काफी शोरगुल सुन कर उस की आंख खुली तो बाहर का नजारा देख कर उस की जान ही निकल गई. उस ने देखा कि पापा को खून की उलटी हो रही है और मम्मी रो रही हैं. श्रेयांश किसी तरह पापा को संभाल रहा था. किसी तरह तीनों मिल कर अनिलजी को अस्पताल ले गए. जीवन ज्योति हौस्पिटल के सीनियर डाक्टर उन्हें देखते ही पहचान गए. तुरंत उन का उपचार शुरू हो गया. श्रेया को तो कुछ समझ नहीं आ रहा था कि पापा को अचानक क्या हो गया है. उस ने प्तीक को भी फोन कर दिया था. आधे घंटे में प्रतीक भी वहां पहुंच गया.

डाक्टरों ने अनिलजी का ब्लड सैंपल ले कर जांच के लिए भेज दिया था और शाम तक रिपोर्ट भी आ गई. रिपोर्ट देख कर डाक्टर का चेहरा उतर गया. प्रतीक को कुछ शक हुआ तो वह वार्ड में अलग ले जा कर डाक्टर साहब से रिपोर्ट के बारे में पूछने लगा. डा. साहब ने अनिलजी की ओर देखा और उन्हें सोता समझ कर धीरे से बोले, ‘‘अनिलजी को ब्लड कैंसर है, वह भी लास्ट स्टेज पर. अब कोई इलाज काम नहीं कर सकता.’’

प्रतीक को बड़ा धक्का लगा. उस ने पूछा, ‘‘फिर भी अंकल, क्या चांसेज हैं? कितना समय है अंकल के पास?’’

‘‘बस महीना या 15 दिन,’’ वे बोले.

तभी आहट सुन कर दोनों ने पलट कर देखा. अनिलजी फटी आंखों से उन की ओर देख रहे थे. दोनों समझ गए कि उन्होंने सबकुछ सुन लिया है. अनिलजी की आंखों से आंसू बह निकले, ‘‘ओह, यह क्या हो गया? अभी तो मेरे बच्चे ठीक से बड़े भी नहीं हुए. अभी तो मैं श्रेया को डोली में बैठाने का सपना देख रहा था. अब क्या होगा?’’ तभी विष्णुकांतजी भी पत्नी सहित वहां आ पहुंचे, ‘‘अनिलजी, आप पहले ठीक हो जाइए, शादीवादी की बात बाद में देखेंगे,’’ वे बोले.

‘‘मेरे पास ज्यादा समय नहीं है, मैं ने सब सुन लिया है. प्रतीक और श्रेया एकदूसरे को पसंद करते हैं. उन की शादी जल्दी हो जाए तो मैं चैन से मर सकूंगा.’’

‘‘कैसी बातें करते हैं आप? शादी की तैयारियों के लिए समय चाहिए. आखिर हमारी कोई इज्जत है, समाज में,’’ विष्णुकांतजी रुखाई से बोले. ‘‘नहीं पापा, मुझे धूमधाम वाली शादी नहीं चाहिए. इतने खराब हालात में इज्जत की चिंता कौन करे. अंकल आप चिंता न करें. यह शादी आज ही और यहीं अस्पताल में होगी,’’ श्रेया का हाथ पकड़ कर अंदर आता प्रतीक तेज स्वर में बोला. श्रेया हैरानी से प्रतीक का मुंह देख रही थी कि तभी वार्डबौय के मोबाइल की रिंगटोन बज उठी, ‘दिल को देखो, चेहरा न देखो… दिल सच्चा और चेहरा झूठा…’ श्रेया के होंठों पर फीकी मुसकान दौड़ गई. पापा सच ही कह रहे थे कि किसी की सूरत से उस की सीरत का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता. दिखने में मौडर्न प्रतीक कितना संवेदनशील इंसान है. प्रतीक के तेवर देख कर विष्णुकांतजी भी नरम पड़ गए. पूरे अस्पताल को फूलों से सजाया गया. वार्ड में ही प्रतीक और श्रेया की शादी हुई. अस्पताल का हर कर्मचारी और मरीज इस अनोखी शादी में शामिल हो कर खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा था.

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();