Breaking News

कहानी: बेबस आंखें

स्वरा अपने पापा केशव कुमार की कंपनी के लोगों की ‘बेबस आंखें’ का अर्थ आज समझ पाई जब उस ने अपने पापा की बेबस आंखों को पश्चात्ताप के आंसू बहाते देखा.

‘डियर डैड, गुड मौर्निंग. यह रही आप के लिए ग्रीन टी. आप रेडी हैं मौर्निंग वौक के लिए?’’


‘‘यस, माई डियर डौटर.’’ वह दीवार पर निगाह गड़ाए हुए बोली, ‘‘डैड, यह पेंटिंग कब लगवाई? पहले तो यहां शायद बच्चों वाली कोई पेंटिंग थी.’’


‘‘हां, यह कल ही लगाई है. मैं पिछली बार जब मुंबई गया था तो वहां की आर्ट गैलरी से इसे खरीदा था. क्यों, अच्छी नहीं है क्या?’’


‘बेबस आंखें’ टाइटल मन ही मन पढ़ती हुई वह बोली, ‘‘डैड, आप की कंपनी का ‘लोगो’ भी आंखें है और अब कमरे में इतनी बड़ी पेंटिंग भी खरीद कर लगा ली है. आंखों के साथ कोई खास घटना जुड़ी है क्या?’’ केशव के हाथ जूते के फीते बांधते हुए कांप उठे थे. उन्होंने अपने को संभालते हुए बात बदली, ‘‘स्वरा, तुम विदेश में अपनी पढ़ाई पूरी कर चुकी हो, अब आगे तुम्हारा क्या इरादा है?’’


‘‘डैड, क्या बात है? आप की तबीयत तो ठीक है न. आज आप के चेहरे पर रोज जैसी ताजगी नहीं दिख रही है. पहले मैं आप का ब्लडप्रैशर चैक करूंगी. उस के बाद घूमने चलेंगे.’’


स्वरा ने डैड का ब्लडप्रैशर चैक किया और बोली, ‘‘ब्लडप्रैशर तो आप का बिलकुल नौर्मल है, फिर क्या बात है?’’


‘‘कुछ नहीं, आज तुम्हारी दादी की पुण्यतिथि है, इसलिए उन की याद आ गई.’’


‘‘डैड, आप दादी को बहुत प्यार करते थे?’’


धीमी आवाज में ‘हां’ कहते हुए उन की अंतरात्मा कांप उठी. वे किस मुंह से अपनी बेटी को अपनी सचाई बताएं. उन्होंने फिर बात बदलते हुए कहा, ‘‘तुम ने बताया नहीं कि आगे तुम्हें क्या करना है?’’


‘‘डैड, मैं सोच रही हूं कि आप का औफिस जौइन कर लूं’’ केशव ने प्रसन्नता के अतिरेक में बेटी को गले से लगा लिया, ‘‘मैं बहुत खुश हूं जो मुझे तुम जैसी बेटी मिली.’’


‘‘डैड, आज कुछ खास है?’’


‘‘हां, सुबह 8 बजे हवन और शांतिपाठ. फिर अनाथाश्रम में बच्चों को भोजन व कपड़े बांटना. दोपहर 2 बजे वृद्धाश्रम के नए भवन का उद्घाटन और वहां पर तुम्हारी दादी की मूर्ति का अनावरण. आई हौस्पिटल में कंपनी की ओर से निशुल्क मोतियाबिंद का औपरेशन शिविर लगवाया गया है. शाम 6 बजे औफिस में दादी की स्मृति में जो बुकलैट बनाई गई है उस का वितरण और सभी कर्मचारियों के लिए बोनस की घोषणा. तुम साथ रहोगी न?’’


‘‘यस पापा, क्यों नहीं? मैं दिनभर आप के साथ रहूंगी.’’


‘‘थैंक्स, बेटा.’’


केशव जिस काम में हाथ लगाते हैं, सोना बरसने लगता है. देशभर में उन का व्यापार फैला हुआ है. 20-22 वर्ष के व्यवसायिक दौर में वे देश की जानीमानी हस्ती बन गए हैं. उन्होंने अपना बिजनैस अपनी मां भगवती देवी के नाम पर भगवती स्टील, भगवती फैब्रिक्स, भगवती रियल एस्टेट आदि क्षेत्रों में फैलाया हुआ है. शिक्षा के क्षेत्र में भी उन्होंने अपना हाथ आजमाया है. ‘भगवती मैनेजमैंट इंस्टिट्यूट’ देश में उच्च श्रेणी में गिना जाता है. दिनभर के व्यस्त कार्यक्रम के बाद केशव रात में जब बैड पर लेटे तो सोचने लगे कि स्वरा को कंपनी जौइन करने के अवसर को वे किस तरह से भव्य बनाएं. फ्रांस के साथ ब्यूटी प्रोडक्ट्स की एक डीड फाइनल स्टेज पर थी. उन्होंने मन ही मन स्वरा फैशन एवं ब्यूटी प्रोडक्ट्स लौंच करने का निश्चय किया. अब उन का मन हलका हो गया था. उन्होंने नींद की गोली खाई और सो गए.


अगली सुबह औफिस पहुंचते ही उन्होंने अपनी सैक्रेटरी जया को बुलाया, ‘‘मेरे आज के अपौइंटमैंट्स बताओ.’’ ‘‘सर, सुबह 10 बजे औफिस के नए प्रोजैक्ट का डिमौंस्ट्रेशन देखना और उस पर बातचीत करनी है. 2 बजे फ्रैंच डैलिगेशन के साथ नई कंपनी को ले कर अपनी मीटिंग है. डीड फाइनल स्टेज पर है. शाम 7 बजे सरकारी अफसरों के साथ मीटिंग है.’’ वे दिनभर काम में लगे रहे. शाम को 6 बजे वे थका हुआ महसूस करने लगे. उन्होंने डाक्टर को बुलाया. डाक्टर ने हाई ब्लडप्रैशर होने की वजह से उन्हें घर पर आराम करने की सलाह दी. वे मीटिंग कैंसिल कर के उदास व मायूस चेहरे के साथ घर पहुंचे. आज वे समय से पहले घर पहुंच गए थे. आलीशान महल जैसी कोठी में नौकरों की भीड़ तो थी परंतु उन का अपना कहने वाला कोई नहीं था. बेटा अंबर अब 22 वर्ष का हो चुका था. दाढ़ीमूंछें आ गई हैं, परंतु उसे छोटे बच्चों सी हरकत करते देख केशव मन ही मन रो पड़ते हैं. वह कौपीपैंसिल ले कर पापापापा लिखता रहता है. वह सहमासिकुड़ा, बड़े से आलीशान कमरे के एक कोने में बैठा हुआ या तो टीवी देखता रहता है या कौपी में पैन से कुछकुछ लिखता रहता है. जब कभी वे उस के खाने के समय पर आ जाते हैं तो डाइनिंग टेबल पर उन को देख कर मुसकरा कर वह खुशी जाहिर करता है.


जिस बेटे के पैदा होने पर उन्होंने घरघर लड्डू बांटे थे उसी बेटे को अपनी आंखों से देख कर वे पलपल मरते हैं और जिस तकलीफदेह पीड़ा से वे गुजरते हैं, यह उन का दिल ही जानता है. दुनिया की दृष्टि में वे सफलतम व्यक्ति हैं परंतु सबकुछ होते हुए भी वे अंदर से हर क्षण आंसू बहाते हैं. पत्नी कनकलता और बेटे अंबर के लिए उन्होंने क्या नहीं किया. परंतु उन के हाथ कुछ नहीं लगा. मांस के लोथड़े जैसे बेटे को गोद में ले कर कनकलता सदमे की शिकार हो गई. एक ओर पत्नी को पड़ने वाले लंबेलंबे दौरे, दूसरी ओर मैंटली रिटार्डेड बच्चा और साथ में बढ़ता हुआ बिजनैस. गरीबी की मार को झेले हुए केशव ने पैसे को प्राथमिकता देते हुए अपने बिजनैस पर ध्यान केंद्रित किया. लेकिन आज अथाह धन होते हुए भी संसार में वे अपने को अकेला महसूस कर रहे थे. बेटी स्वरा ही उन की जिंदगी थी. उस को देखते ही उन्हें पत्नी कनकलता का चेहरा याद आ जाता. वह हूबहू अपनी मां पर गई थी.


स्वरा अभी छोटी है दादी कैसे चार यात्रा के लिए कैसे जाऊं, घर पर परेशानिया होगी.

अचानक उन की निगाहें घड़ी पर गईं. रात के 9 बज रहे थे. अभी तक स्वरा नहीं आई थी. उन की बेचैनी बढ़ने लगी थी. वह कभी भी देररात तक घर से बाहर नहीं रहती. यदि देर से आना होता था तो वह मैसेज जरूर कर देती थी. वे परेशान हो कर अपने कमरे से बाहर आ कर बरामदे में चहलकदमी करने लगे. तभी उन के फोन की घंटी बज उठी. उस तरफ बेटी स्वरा की घबराई हुई आवाज थी, ‘‘पापा, मेरी गाड़ी का ऐक्सिडैंट…’’ उस के बाद किसी दूसरे आदमी ने फोन ले कर कहा, ‘‘हम लोग इसे अस्पताल ले कर जा रहे हैं. खून बहुत तेजी से बह रहा है, आप तुरंत पहुंचिए.’’ यह खबर सुनते ही केशव अपना होश खो बैठे. यह सब उन के अपने कर्मों का फल था. जब उन के पास पैसा नहीं था तो वे ज्यादा खुश थे. कितने अच्छे दिन थे, उन का छोटा सा परिवार था. वे अपने अतीत में खो गए.


वे थे और थी उन की अम्मा. पिताजी बचपन में ही उन का साथ छोड़ गए थे. अम्मा ने कपड़े सिलसिल कर उन को बड़ा किया. अम्मा ने अपने दम पर उन को पढ़ायालिखाया. उन की नौकरी लगते ही अम्मा को उन के विवाह की सूझी. छोटी उम्र में ही उन की शादी कर दी. पत्नी कनकलता सुंदर और साथ में समझदार भी थी. उन की माली हालत ज्यादा अच्छी नहीं थी. छोटी सी तनख्वाह में हर समय पैसे की किचकिच से वे परेशान रहते थे. फिर भी जब अम्मा शाम को गरमगरम रोटियां सेंक कर खिलाती थीं तो वे कितनी संतुष्टि महसूस करते थे. परंतु उन की पैसे की हवस ने उन के हाथ से उन की सारी खुशियां छीन लीं. बचपन से ही उन्हें पैसा कमाने की धुन थी. जब वे बहुत छोटे थे तो लौटरी का टिकट खरीदा करते थे. एक बार उन का 1 लाख रुपए का इनाम भी निकला था. दिनरात पैसा कमाने की नित नई तरकीबें उन के दिमाग में घूमती रहती थीं. एक दिन अखबार में उन्होंने एक चलती हुई फैक्टरी के बहुत कम कीमत में बिकने का विज्ञापन पढ़ा. उन्होंने मन ही मन उस फैक्टरी को हर सूरत में खरीदने का निश्चय कर लिया.


स्वरा का जन्म हो चुका था. खर्च चलाना बहुत मुश्किल हो गया था. उन्होंने फैक्टरी खरीदने के लिए अम्मा को घर बेचने पर मजबूर कर दिया. अम्मा बेटे की जिद और जबरदस्ती देख, सकते में थीं.


वे रोती हुई बोली थीं, ‘लल्ला, हम रहेंगे कहां?’ ‘अम्मा, कुछ दिनों की ही तो बात है, मैं आप को बहुत बड़ी कोठी खरीद कर दूंगा. यह मेरा वादा है आप से.’ अम्मा ने सिसकते हुए बहती आंखों से कागज पर दस्तखत कर दिए थे. लेकिन अपने नालायक बेटे की शक्ल से उस समय उन्हें नफरत हो रही थी. अपनी मजबूरी पर वे रातदिन आंसू बहाती थीं. घर खाली करते समय वे अपने घर को अपनी सूनी, पथराई आंखों से घंटों निहारती रही थीं. घर बिकने के सदमे से अम्मा उबर नहीं पा रही थीं. वे न तो ढंग से खाती थीं, न किसी से बात करती थीं. बस, हर समय चुपचाप आंसू बहाती रहती थीं.


एक दिन पड़ोस की मंगला मौसी,  जोकि अम्मा की बहन जैसी थीं,  उन से मिलने आईं, ‘क्या कर रही हो, बहन?’ आंसू पोंछते हुए अम्मा बोलीं, ‘कुछ नहीं मंगला, इस घर में मेरा बिलकुल भी मन नहीं लग रहा है. मुझे यहां अच्छा नहीं लगता. वहां सब लोग कैसे हैं?’ ‘सब अपनीअपनी दालरोटी में लगे हुए हैं. हां, हम चारधाम की यात्रा पर जा रहे हैं.’


अम्मा लहक कर बोलीं, ‘चारधाम, मेरे तो सब धाम यहीं हैं. अब तो मर कर ही घर से निकलेंगे.’ ‘अपने लोगों की तो सारी जिंदगी बेटाबेटी और चूल्हेचौके में बीत गई. कुछ कभी अपने बारे में भी सोचोगी?’


‘तीर्थयात्रा में जाने का तो बहुत मन है, लेकिन क्या करूं, स्वरा अभी छोटी है. नई जगह है. अकेली बहू को छोड़ कर कैसे जाऊं?’ ‘मैं तो चारधाम यात्रा वाली सरकारी बस से यात्रा पर जा रही हूं. किसी तरह रोतेधोते, हायहाय कर के यह जिंदगी बिताई है. कुछ ज्यादा नहीं कर सकती तो चारधाम की यात्रा ही कर आऊं.’


‘बहुत अच्छा सोचा है, बहन.’


‘मेरी तो आवर्ती जमा की एक स्कीम पूरी हुई थी. उस के 4 हजार रुपए मिले थे. एक हजार रुपए कम पड़ रहे थे तो रंजीत से कहा. उस ने मुंह बनाया लेकिन बहू अच्छी है, उस ने रंजीत से कहसुन कर दिलवा दिया. अब वह मेरे जाने की तैयारी में लगी हुई है.’ अम्मा उत्सुक हो कर बोलीं, ‘कब जाना है?’


‘अभी तो जाने में एक महीना बाकी है. लेकिन बुकिंग तो अभी से करवानी पड़ेगी. जब पूरी सीटें भर जाएंगी तभी तो बस जाएगी.’ तभी बहू कनकलता चाय ले कर अंदर आई तो अम्मा उसे सुनाते हुए बोलीं, मैं भला कैसे जा पाऊंगी, बिटिया छोटी है. केशव को रातदिन अपनी फैक्टरी के सिवा किसी बात से मतलब नहीं है. बहू को छोड़ कर मैं नहीं जाऊंगी.’


‘बहन, तुम भी खूब हो इस उम्र में तीर्थयात्रा पर नहीं जाओगी तो कब जाओगी, जब हाथपैर बेकार हो जाएंगे? बिस्तर पर लेटेलेटे सोचती रहना कि सब मन की मन में ही रह गई. हम ने सब का किया लेकिन अपने लिए कुछ न कर पाए. रुपए तो तुम ने भी जोड़ कर रखे ही होंगे. काहे को किसी के आगे हाथ पसारो. चेन की ओर इशारा करती हुई वह बोली, गले में सोने की जंजीर न पहनोगी तो कुछ बिगड़ थोड़े ही जाएगा. फिर तुम्हारा जैसा मन हो, वैसा करो. लेकिन जीवन में मौके बारबार नहीं मिलते.’ ‘अरे नहीं, तुम ने बहुत अच्छा किया जो मुझे बता दिया. तीर्थयात्रा पर तो जाने का मेरा भी मन कब से है. लेकिन कोई बात नहीं, भविष्य में कभी जाएंगे.’ ड्राइवर की आवाज से केशव की


विचारशृंखला भंग हुई. वे वर्तमान में लौटते ही स्वरा स्वरा पुकारने लगे. इमरजैंसी वार्ड के बाहर स्वरा को चहलकदमी करता देख उन के कलेजे में ठंडक पड़ी. उन्होंने दौड़ कर स्वरा को सीने से लगा लिया. उन की आंखों से लगातार आंसू बह रहे थे.


‘‘बेटी, तुम्हें ठीक देख मेरी जान में जान आई. वह तो कह रहा था, खून बहुत बह रहा था.’’


‘‘पापा, राधे काका के सिर में चोट आई है. उन की हालत सीरियस है.’’ वे तेजी से दौड़ कर डाक्टर के पास गए और उस का अच्छा से अच्छा इलाज करने को कहा. राधे की पत्नी और बेटे को सांत्वना देते हुए बोले, ‘‘तुम लोगों को घबराने को जरूरत नहीं है. मैं ने डाक्टर से बात कर ली है. मैं इन का अच्छा से अच्छा इलाज करवाऊंगा. तुम लोगों का घरखर्च के लिए रुपए घर पर पहुंच जाएंगे. इस के सिवा तुम्हें आधी रात को भी कोई जरूरत हो तो निसंकोच मुझे फोन करना.’’


‘‘मालिक, आप की कृपा है,’’ रोती हुई राधे की पत्नी बोली थी. अब केशव स्वरा की ओर मुखातिब होते हुए बोले, ‘‘बेटी, तुम्हें फोन कर के अपनी कुशलता की खबर देनी चाहिए थी कि नहीं? ऐक्सिडैंट शब्द सुनते ही मेरे तो प्राण सूख गए थे.’’


अम्मा अपनी यात्रा में बहुत खुश थीं. वे अपनी तीर्थयात्रा पूरी कर के लौट रही थीं. उस के बाद उन से संपर्क टूट गया.

‘‘पापा, मैं ने कई बार आप को फोन किया, परंतु आप ने फोन ही नहीं उठाया.’’ केशव ने अपना फोन निकाल कर देखा, उस में स्वरा के 6 मिस्डकौल थे. जाने कैसे फोन साइलैंट मोड पर चला गया था. राधे की हालत नाजुक थी, इसलिए केशव ने रात को वहीं रुकने का निश्चय किया. स्वरा अकेले घर जाने को तैयार नहीं थी, इसलिए अस्पताल के ही एक प्राइवेट रूम में दोनों जा कर बैठ गए. बेटी स्वरा के ऐक्सिडैंट की खबर से आज वे ऐसी मानसिक यंत्रणा से गुजरे थे कि उन का संपूर्ण अस्तित्व ही हिल उठा था. अपने जीवन में घटने वाली हर दुर्घटना के लिए उन्होंने हमेशा स्वयं के द्वारा किए गए अपराध की वजह से अपने को ही दोषी मानते आए थे. आज उन्होंने मन ही मन पूर्ण निश्चय कर लिया था कि वे आज अपनी बेटी के समक्ष अपने गुनाह को स्वीकार कर के अपने दिल का बोझ हलका कर लेंगे. अब उन के लिए यह बोझ असहनीय हो चुका है.


मन ही मन सोचना और मुंह से बोलना 2 अलग अलग बातें हैं. ऊहापोह की बेचैन मानसिक अवस्था में वे लगातार चहलकदमी कर रहे थे. ‘पापा, राधे काका ठीक हो जाएंगे. आप इतना परेशान क्यों हैं?’’


‘‘स्वरा, मैं बहुत नर्वस हूं. मैं तुम से कैसे कहूं अपने दिल का हाल. पता नहीं, तुम मुझे माफ करोगी या नहीं? जीवन में सबकुछ होते हुए भी तुम्हारे सिवा मेरा दुनिया में कोई नहीं है. लेकिन ठीक है, अब तुम मुझे चाहे सजा देना, चाहे माफी.’’


‘‘पापा, आप कहिए, जो कुछ कहना चाह रहे हैं.’’


केशव अपनी बेटी स्वरा से आंखें नहीं मिला पा रहे थे. इसलिए उन्होंने अपना मुंह दीवार की तरफ कर लिया. फिर बोले, ‘‘बेटी, ध्यान से सुनो, तुम लगभग 3 वर्ष की थीं. मेरी आर्थिक दशा अच्छी नहीं थी. पैसा कमाने का मन में जनून था. मैं ने अम्मा से जबरदस्ती कर के उन का घर बेच दिया और उन्हीं पैसों से पहली फैक्टरी खरीदी. लेकिन खरीदना और उसे चलाना अलग बात होती है. मैं परेशान रहता था. तभी एक दिन अम्मा के मुंह से सुना, वे मंगला मौसी से कह रही थीं, ‘अपनेअपने समय की बात है. अच्छा समय होता तो मेरा अपना घर ही काहे को छूटता.’ तुम्हारी मां से मालूम हुआ कि अम्मा तीर्थयात्रा पर जाना चाहती हैं.


‘‘अम्मा की जिद के आगे मैं झुक गया और तुम्हारी मां और मैं ने उन्हें तीर्थयात्रा पर भेजने का निश्चय कर लिया. अम्मा के चेहरे पर से उदासी के बादल छंट गए. कनकलता उन के जाने की तैयारी में लग गई. आखिर वह घड़ी आ गई जब अम्मा को बस पर तीर्थयात्रा के लिए जाना था. मैं और कनकलता दोनों उन्हें बस पर बिठा कर आए. तेरा माथा चूमते हुए अम्मा की आंखों से झरझर आंसू बह निकले थे. ‘‘तुम्हारी मां बहुत खुश थी कि चलो, अम्मा की कोई इच्छा तो वह पूरी कर पाई थी. कनकलता ने अपने पैसे से एक नया मोबाइल फोन ला कर अम्मा को दिया था. अम्मा रोज एक बार फोन कर के बताना कि कहां पहुंची? क्या देखा? और कैसी हो? अम्मा बहू का लाड़ देख उस को गले से लगा कर रो पड़ी थीं.‘‘मुझे फैक्टरी चलाने के लिए ब्याज पर रुपया लेना पड़ता था, इसलिए जो फायदा होता था वह ब्याज में चला जाता था. मुझे कोई उपाय नहीं सूझता था.


‘‘अम्मा को गए एक हफ्ता हो गया था. घर में सन्नाटा लगता था. कनकलता को घर के कामों से फुरसत नहीं मिलती थी. छोटी सी गुडि़या सी तुम दादी दादी पुकार कर उन्हें यहां वहां ढूंढ़ा करती थीं. ‘‘अम्मा अपनी यात्रा में बहुत खुश थीं. वे अपनी तीर्थयात्रा पूरी कर के लौट रही थीं. उस के बाद उन से संपर्क टूट गया. तेरी मां बहुत चिंतित थीं. मैं अपनी उलझनों में था कि मंगला मौसी के बेटे मोहन का फोन आया कि बस का ऐक्सिडैंट हो गया है. इसलिए किसी भी यात्री के बारे में कुछ पता नहीं लग रहा है. उस ने सूचना दे कर फोन काट दिया था.


‘‘टीवी पर हैल्पलाइन नंबर देख हम लोग किसी तरह से घटनास्थल पर पहुंचे. वहां का दर्दनाक दृश्य देख कनकलता तो बेहोश ही हो गई थी. बस के आधे से अधिक यात्री अपनी जीवनलीला समाप्त कर चुके थे. कुछ के हाथपैर कटे हुए थे, किसी का मुंह पिचका हुआ था. कोहराम मचा हुआ था. घर वालों की चीत्कार और प्रियजनों का रोनाबिलखना, बहुत ही वीभत्स दृश्य था. बदहवास रिश्तेदार अपने प्रियजनों को खोजने के लिए शवों को पलटपलट कर देख रहे थे. ‘‘बस चूंकि सरकारी थी, इसलिए सरकार ने मुआवजा घोषित किया था. यात्रियों का बीमा भी हुआ था, इसलिए बीमा कंपनी की ओर से भी रुपया मिलना था. घायलों को सरकार 20 हजार रुपए दे रही थी और मृतकों को 20 लाख रुपए देने की घोषणा मंत्री महोदय ने स्वयं की. वे घटनास्थल पर चैक बांटने के लिए आने वाले थे. ‘‘बेटी, मैं लालच में अंधा हो गया था. मैं मन ही मन प्रार्थना कर रहा था कि अम्मा का शव दिख जाए और मुझे 20 लाख रुपए का चैक मिल जाए. तभी एक एनजीओ कार्यकर्ता की आवाज कानों में पड़ी, ‘कुदरत ने कैसा अन्याय किया है हाथपैर दोनों कट गए हैं, आंते भी बाहर निकली पड़ रही हैं.’


‘‘वह अपने साथी से बोला, ‘देखो, जरा यह बूढ़ी अम्मा शायद अपने बेटे की आस में पलकें खोले रखे हैं. काहे अम्मा, अपने लड़के को ढूंढ़ रही हो?’


‘‘उन लोगों की बातें सुन महज जिज्ञासावश मेरी नजरें अम्मा की बेबस आंखों से टकराईं. पलभर को मैं सहम गया था. मुझे अपना 20 लाख रुपए का चैक हाथ से जाता हुआ दिख रहा था. ‘‘गंभीररूप से घायल बेजबान अम्मा की आवाज अवश्य जा चुकी थी परंतु उन की लाचार आंखों ने अपने स्वार्थी बेटे की इस हरकत पर कुदरत से अवश्य मौत मांगी होगी.


‘‘मैं पैसे का लालची और स्वार्थ में अंधा बेटा दूसरी लाश की शिनाख्त कर, उसे अपनी अम्मा बता कर 20 लाख रुपए का चैक ले कर धंधे में लग गया. परंतु तुम्हारी मां कनकलता को कतई कभी विश्वास नहीं हुआ कि अम्मा अब इस दुनिया में नहीं हैं. उसी समय कनकलता गर्भवती भी हो गई थी. परंतु वह सदमे में थी. मैं अपने धंधे में व्यस्त था. न तो मुझे दिन का होश, न रात का. मुझे कनक को देखने की फुरसत ही नहीं थी. और जब अंबर पैदा हुआ तो मैं ने खूब खुशी मनाई परंतु कनक अभी भी गुमसुम रहती थी. जब 3-4 महीने के बाद अंबर के मैंटली रिटार्डेड होने का पता लगा तो पहली बार कनकलता को हिस्टीरिया का तेज दौरा पड़ा. धीरेधीरे उस की मानसिक स्थिति बिगड़ती गई. दोबारा होने वाले इस सदमे से वह फिर उबर नहीं पाई. वह पूर्णरूप से मानसिक रोगी बन चुकी थी. मजबूरन मुझे उसे कमरे में बंद करना पड़ा.


‘‘स्वरा, मैं धन के ढेर पर बैठा हुआ उल्लू हूं. मैं ने अपनी अम्मा के साथ अन्याय किया. धन के लालच में मैं अंधा हो गया था. धन तो मुझे अथाह मिल गया परंतु जीवन से सबकुछ छिन गया. मां के प्रति किए गए अपराध के अवसाद से पत्नी पागल हो गई और बेटा अपाहिज रह गया. वह जीवित लाश की तरह है. मैं मात्र तुम्हारे सहारे, तेरी उम्मीद पर जीवित हूं. परंतु आज तुम्हारे ऐक्सिडैंट की खबर से मैं अंदर तक कांप उठा. अब भविष्य में मुझ में कुछ भी खोने की शक्ति नहीं है. अम्मा की बेबस आंखें आज भी मुझे डराती हैं. मैं आज तक एक दिन भी चैन की नींद नहीं सो सका हूं. मैं पैसे के लालच में ऐसा अंधा था कि अपनी जीवित मां को भी पहचानने से इनकार कर दिया. मैं अपराधी हूं. मेरा अपराध क्षमायोग्य भी नहीं है. अपने कलेजे पर अपराध के बोझ के भार को उठा कर घूम रहा हूं. ‘‘मेरी बेटी, अब इस के बाद मैं तुम्हें नहीं खोना चाहता. मेरी बच्ची, मैं ने तुम्हारे सामने अपना दिल खोल कर रख दिया है. तुम जो चाहे वह सजा मुझे दो. मेरा सिर तुम्हारे सामने झुका है.’’


केशव सिर झुका कर बच्चों की तरह फूटफूट कर रो पड़े थे. स्वरा किंकर्तव्यविमूढ़ कुछ समय निश्छल खड़ी रही. आज वह पापा की बेबस आंखों को पश्चात्ताप के आंसू बहाते देख रही थी. आखिरकार, वह पापा के गले से लिपट गई. अब 2 जोड़ी बेबस आंखों से आंसू बह रहे थे.

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();