गाजीपुर: चातुर्मास में शिवोपासना कर रहे महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनन्दन यति - Ghazipur News ✔ | गाजीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

Ghazipur News ✔ | गाजीपुर न्यूज़ | Latest Ghazipur News in Hindi ✔

गाजीपुर न्यूज़, ग़ाज़ीपुर ब्रेकिंग न्यूज़, खेल समाचार, राजनीति न्यूज़, अपराध न्यूज़

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

गाजीपुर: चातुर्मास में शिवोपासना कर रहे महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनन्दन यति

गाजीपुर न्यूज़ टीम, गाजीपुर बेसो नदी के तट पर स्थित सिद्ध संतों की साधना स्थली सिद्धपीठ हथियाराम मठ के 26वें पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनन्दन यति जी महाराज इन दिनों अपना 24वां चातुर्मास महायज्ञ सम्पादित कर रहे हैं। वृद्धाम्बिका (बुढ़िया माई) माता एवं भगवान शिव के अनन्य उपासक स्वामी भवानीनन्दन यति का यह चातुर्मास महायज्ञ अषाढ़ शुक्ल पक्ष पूर्णिमा से आरंभ यह चातुर्मास महायज्ञ भाद्र पद पूर्णिमा तक चलेगा। महायज्ञ में वाराणसी के वैदिक ब्राह्मण प्रतिदिन षोडषप्रकार विधि से पार्थिव शिवलिंग बनाकर जलाभिषेक व दुग्धाभिषेक कर रहे हैं। 

सुबह सात बजे से पूजन-अर्चन, अभिषेक के बाद शाम को होने वाली भव्य उत्तर पूजा, महा आरती व भोग-प्रसाद में देश के कोने-कोने से आये शिष्य श्रद्धालु शामिल हो रहे हैं। आचार्य सुरेश जी के नेतृत्व में एक साथ 21 ब्राह्मणों द्वारा किये जा रहे मंत्रोच्चार की गूंज से समूचा अंचल गुंजायमान है। चातुर्मास के दौरान स्वामी भवानीनन्दन ने हरिहरात्मक पूजा के उपरांत प्रवचन करते हुए इसकी महत्ता बताते हुए कहा कि व्रत, भक्ति और शुभ कर्म के चार महीने को हिन्दू धर्म में चातुर्मास कहा गया है। ध्यान और साधना करने वालों के लिए यह मास महत्वपूर्ण होता है। इसमें एक ही स्थान पर रहकर ब्रह्मचर्य का पालन किया जाता है। 

उन्होंने कहा कि इस दौरान भगवान विष्णु की आराधना करने से समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। गुरुवार को उपवास और विष्णु सहस्त्र नाम का पाठ करना लाभकारी होता है। भगवान शिव को सर्मिपत चातुर्मास के पहले मास श्रावण में शिवोपासना करनी चाहिए। कहा कि भगवान शिव के ललाट पर चन्द्रमा और जटा से गंगा का प्रवाह इस बात का प्रतीक है कि हम अपने मन-मस्तिष्क को चन्द्रमा के समान शीतल रखें, तभी हमारे अंदर श्रेष्ठ विचारों की गंगा का प्रवाह होगा। 

शिव की उपासना को सर्वथा कल्याणकारी बताते हुए उन्होंने प्राचीन ऐतिहासिक सिद्धपीठ को संतों की धरती बताते हुए इस महातीर्थ पर चातुर्मास महायज्ञ आयोजन को अपना सौभाग्य बताया। इस महानुष्ठान में बिहार, बंगाल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात समेत देश के कोने-कोने से आये श्रद्धालु द्वादश ज्योर्तिलिंगों का दर्शन-पूजन कर पूण्य-लाभ के भागी बन रहे हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad